बार डांसर से कॉल गर्ल बन गई

मेरा नाम कविता है मैं जयपुर की रहने वाली हूं, मेरी उम्र 25 वर्ष है। मैं मुंबई की कंपनी में काम करती हूं, मुझे मुंबई में दो वर्ष हो चुके हैं, इन दो वर्षों में मेरे घरवाले मुझसे मिलने कई बार मुंबई आ चुके हैं। मुझे बहुत ही अच्छा लगता है जब मेरे माता पिता मुझसे मिलने के लिए मुंबई आते हैं। मेरे साथ में एक लड़की रहती है उसका नाम काजल है। काजल बहुत ही अच्छी लड़की है और काजल भी दिल्ली की रहने वाली है। हम दोनों की मुलाकात एक कॉमन फ्रेंड के रूप में शुरू हुई और जब हम दोनों की मुलाकात हुई तो उसके बाद हम दोनों की बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी। मैंने जब एक बार काजल से कहा कि मुझे रहने की बहुत दिक्कत है इसी वजह से उसने मुझे कहा कि हम लोग कहीं पर फ्लैट लेते हैं ताकि हम दोनों साथ में ही रह पाए, इसीलिए मैं काजल के साथ रहने चली गई। काजल और मेरे बीच में बहुत अच्छी दोस्ती है इसीलिए जब भी मेरे घर वाले मुझसे मिलने आते हैं तो वह मेरे पास ही रुकते हैं और जब वह आते हैं तो उस वक्त मैं अपने ऑफिस से छुट्टी ले लेती हूं।

मेरे पिताजी बहुत ही सिंपल और साधारण व्यक्ति हैं, वह अभी भी बहुत ही पुराने ख्यालातो के हैं। जब भी वह मुझसे मिलने आते हैं तो काजल हमेशा कहती है कि तुम्हारे पिताजी तो बहुत ही पुराने ख्यालातो के हैं। मैं काजल से कहती हूं कि वह पहले से ही ऐसे हैं, वह बहुत ही सिंपल और साधारण व्यक्ति हैं। उन्हें ना तो किसी के साथ ज्यादा बात करना अच्छा लगता है और ना ही वह कभी भी किसी के साथ कुछ गलत बात करते हैं। वह जब भी मुंबई आते हैं तो ज्यादा किसी से भी बात नही करते। मैं और काजल साथ में बहुत अच्छे से रहते हैं, हम दोनों के बीच कभी भी झगड़ा नहीं हुआ। मैं जिस कंपनी में नौकरी करती हूं, एक दिन उस कंपनी का बहुत बड़ा नुकसान हो गया और इसी वजह से उस कंपनी के सारे लोगों को नौकरी छोड़नी पड़ी। कुछ समय तक तो हमारी कंपनी ने हमें पैसा दिया लेकिन उसके बाद हमें तनख्वा मिलनी बंद हो गई इसलिए मैं अब घर पर ही थी और मेरे पास कुछ भी काम नहीं था। मैंने काजल से भी कहा कि यदि तुम्हारी कंपनी में कोई जॉब हो तो तुम मुझे बता देना, वह कहने लगी ठीक है मेरी कंपनी में यदि कोई जॉब होगी तो मैं तुम्हें बता दूंगी।

मैंने अपने और भी दोस्तों को इस बारे में बता दिया था लेकिन मैं जिस भी कंपनी में जाती हूं वहां पर ज्यादा सैलरी नहीं मिलती इसलिए मैंने कहीं पर भी ज्वाइन नहीं किया। मैं घर पर ही थी और काफी समय से खाली बैठी हुई थी लेकिन मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिए क्योंकि मुझे कहीं भी नौकरी नहीं मिल रही थी, मैं बहुत ज्यादा परेशान हो गई थी। एक दिन मुझे एक व्यक्ति मिला और वह मुझे कहने लगा कि मेरे पास तुम्हारे लिए एक काम है परंतु तुम शायद वह नहीं कर पाओगे, मैंने पूछा की वह किस प्रकार का काम है, तो वह कहने लगा कि तुम्हें डांस बार में डांस करना होगा। मैंने उसे कहा कि मैं तुम्हें इस बारे में सोच कर बताऊंगी, पहले मैंने उसे कुछ भी जवाब नहीं दिया लेकिन जब मेरे पास कोई भी काम नहीं था तो मैंने उसे कहा कि ठीक है मैं बारडांस का काम करने के लिए तैयार हूं। उस व्यक्ति का नाम सुरजीत है, वह मुझे एक बार में ले गया और उसने मुझे वहां के मालिक से मिलवाया। जब मैं उसके मालिक से मिली तो उन्होंने मुझे सब कुछ समझा दिया। अब मैं डांस बार में डांस करने लगी थी। मुझे उसके बदले बहुत अच्छे पैसे मिलते थे लेकिन मैंने कभी भी इस बारे में काजल को नहीं बताया। मेरे पास बहुत अच्छे पैसे होने लगे थे इसलिए मुझे डांस बार में काम करना अच्छा लगता था। वहां पर कई लोग आते थे और मेरी उनसे भी मुलाकात होती थी। वह सब पैसे वाले लोग थे और मेरी भी अब पैसों को लेकर भूख बढ़ने लगी। बीच-बीच में मुझे सुरजीत मिल जाया करता था और मैं उसे भी कुछ पैसे देती थी। वह भी बहुत खुश होता था जब मैं उसे पैसे देती थी क्योंकि उसका यही काम था और वह एक दलाल है, जो की लड़कियों को डांस बार में काम पर लगाता है और उसके बदले लड़किया उसे कुछ पैसे देती हैं। उसने मुझसे भी कुछ पैसे लिए, मैंने शुरुआत में उसे पैसे दिए थे लेकिन मैं उसे बीच बीच में कुछ ना कुछ पैसे दे दिया करती। डांस बार में मैं बहुत से कस्टमर बनने लगे थे और सब मुझ पर बहुत पैसा उड़ाते थे। मुझे भी अच्छा लगता था जब वह मुझ पर पैसा उड़ाते थे लेकिन मैंने यह बात कभी भी काजल को नहीं बताई। काजल मुझसे एक दिन पूछने लगी की तुम्हारी कौन सी कंपनी में जॉब लगी है। मैंने उसे बताया कि मेरी एक बहुत ही अच्छी कंपनी में नौकरी लग गई है और वहां पर मेरी बहुत अच्छी तनख्वाह है।

वह मुझे कहती कि अब तुम पहले से बहुत ज्यादा पैसे खर्च करती हो। मैंने उसे कहा कि अब मुझे ज्यादा तनख्वाह मिलती है इसीलिए मुझे अपने ऊपर पैसे खर्च करना अच्छा लगता है। मैं काजल को जब भी शॉपिंग के लिए लेकर जाती तो मैं अपने लिए हमेशा ही महंगे ब्रेंड के कपड़े लेती थी और कई बार मैं काजल को भी कुछ कपड़े दिला दिया केरती थी इसीलिए वह मुझसे हमेशा ही पूछती थी लेकिन मैंने उसे कभी भी उसे अपने काम के बारे में नहीं बताया। मैं अपने काम पर शाम के वक्त जाती थी। मुझे अब पैसों का बहुत ज्यादा लालच बढ़ने लगी थी तो मैं अब और बड़ा कुछ करना चाहती थी इसलिए मैंने सुरजीत से इस बारे में बात की तो सुरजीत मुझे कहने लगा अभी फिलहाल तुम डांस बार में काम करो। मैं चाहती थी कि मैं अब और ज्यादा पैसे कमाऊ। मेरी इस बारे में कोई लोगों से मुलाकात हो चुकी थी और मैंने उनसे भी बात की थी परंतु मुझे कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं मिला जिससे कि मैं खुलकर बात करू। मैंने अपनी जिंदगी को दो तरीके से जीना शुरू कर दिया था।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *