बड़ी गांड वाली भाभी की चुदाई

आजकल युवाओं और किशोरों को हमउम्र लड़कियों की बजाय आंटियाँ और भाभियाँ ज्यादा पसंद आने लगी हैं. इस का एक कारण शायद उनका भरा- पूरा गदराया बदन हो सकता है. ऐसी ही एक मांसल देह वाली और भारी नितम्बों वाली भाभी की कहानी है ये…….

हेलो दोस्तो मेरा नाम किंशुक हैं और मैं जयपुर मे रहकर पढ़ाई करता हूँ। मेरा कद 5 फ़ीट 11 इंच हैं और दिखने मे भी काफी स्मार्ट हूँ। मेरे लन्ड का साइज़ 8 इंच है। मेरे कॉलेज की बहुत सी लडकियाँ मुझसे दोस्ती करना चाहती हैं पर मुझे उनमे कोई इंटरेस्ट नही है, क्योंकि दोस्तों मुझे भाभियों और आन्टियों मैं ज्यादा दिलचस्पी है।

एक बार मैं अपनी छत पर टहल रहा था तो मेरे फ्लैट के ठीक सामने वाली फ्लैट की छत पर एक खूबसूरत भाभी कपडे सुखा रही थी। वो बार बार मुझे तिरछी निगाहों से घूरे जा रही थी. मैंने भी उन्हें एक प्यारी सी स्माइल पास कर दी। वो कुछ देर बाद नीचे चली गयी ।मैं भी नीचे आ गया और काफी देर तक भाभी के बारे मे सोचता रहा। उनके बदन का माप 34-32-38 रहा होगा। उसके बारे में सोचते हुए मेरा लन्ड कड़क हो गया पर उसमे से वीर्य की 4-5 बूंदे मेरे अंडरवियर मे गिर गयी। मैंने तय कर लिया की भाभी की चूत तो मैं लेके ही रहूंगा।

एक दिन सुबह मैं कॉलेज जाने के लिए घर से जैसे ही निकल रहा तो मैंने देखा वो ही भाभी सामने से आ रही थी. शायद वो मार्केट से आ रही थी. क्योंकि उनके हांथो मे काफी सारा सामान था। मैंने उनको हाय कहा तो उन्होंने भी मुझे एक प्यारी सी स्माइल दी। अब मैंने उनसे कुछ मदद के लिए पूछा तो उन्होंने एक सब्जियों का थैला पकड़ने के लिए बोला। हम दोनों बातें करते हुए आगे चलने लगे। उन्होंने अपना नाम पाखी बताया। उनके पति काम के सिलसिले मे ज्यादातर बाहर ही रहते थे और कभी-कभार ही आते थे।

मैंने उनको घर तक छोडा और कॉलेज के लिए जाने लगा, तो उन्होंने कहा- पहली बार घर आये हो चाय तो पीकर जाओ।

मैंने कहा- अभी नही भाभी! फिर कभी. अभी मैं लेट हो रहा हूँ।

उन्होंने कहा- ठीक है. पर शाम को जरूर आना।

मैंने कहा- ठीक हैं भाभी!

फिर मैं कॉलेज आ गया। आज का दिन मुझे अपनी ज़िन्दगी का सबसे लम्बा दिन लग रहा था। जैसे-तैसे शाम हुई. मैंने कॉलेज से आते समय दो कंडोम के पैकेट ले लिये। मैंने सोच लिया था की आज चाहे कुछ भी हो जाये भाभी की चूत मार के ही रहूँगा।

शाम के 7 बजे होंगे तो मैंने उनके दरवाज़े पर दस्तक दी। उन्होंने अंदर से ही पूछा- कौन है?

मैंने कहा भाभी मैं किंशुक।

उन्होंने कहा- अभी आती हूँ।

थोड़ी देर मे भाभी ने जैसे ही दरवाज़ा खोला तो मैं उन्हें देखता ही रह गया। उन्होंने पिंक नेट वाली साडी और पिंक हाफ स्लीव्स ब्लाउज पहन रखा था। ब्लाउज में से उनकी बगल के छोटे छोटे बाल दिख रहे थे।

मुझे यूँ घूरते देख उन्होंने कहा- क्या हुआ?

मैंने कहा- कुछ नहीं.

और फिर हम अंदर चले गए।उनका घर काफी बड़ा था। उन्होंने मुझसे कहा की मैं अभी चाय बना कर लाती हूँ और वो अपनी गांड मटकाते हुए रसोई मे चली गयी। थोड़ी देर बाद उन्होंने मुझे आवाज़ दी. मैं तुरंत रसोई मे गया.

मैंने पूछा- क्या हुआ भाभी?

उन्होंने कहा- मैं जब तक खाना बनाती हूँ, तुम यहीं बैठ कर चाय पीओ। मेरा मन लगा रहेगा और तुम भी अकेले बोर नही होवोगे।

मैं स्लैब पर बैठकर चाय पीने लगा।

उन्होंने मुझसे पूछा- तुम्हारी कितनी गर्लफ्रेंड हैं?

मैने कहा- एक भी नही।

उन्होंने कहा – तुम जैसे स्मार्ट लड़के की एक भी गर्लफ्रेंड नही है, यकीन नही होता।

मैंने कहा- सच में नही हैं। क्या आप मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी?

तो मुझे देखने लगी और बोली- हाँ! क्यों नही?

ये सुनते ही मैंने उन्हें गले से लगा लिया। उनके बदन से एक अलग ही महक आ रही थी. जिसने मुझे पागल कर दिया मैंने अपने होंठों को उनके होठों से लगा दिया और उनके रस को पीने लगा. ब्लाउज के ऊपर से ही उनके बड़े बड़े बूब्स दबाने लगा.

वो मुझसे कहने लगी- अभी नही, बाद में! अभी मुझे खाना तो बना लेने दो।

मैंने कहा- अब और इन्तजार नही हो रहा है भाभी।

उन्होंने कहा की मैं उन्हें भाभी नही पाखी बुलाऊ।

मैने कहा- ठीक है पर अभी बैडरूम मे चलते हैं।

वो बोली- तुम नहीं मानोगे, चलो!

बेडरूम में आते ही मैं उन पर टूट पड़ा। वो बोली- आराम से करो. मैं कहीं भागे थोड़े जा रही हूँ. अभी पूरी रात है हमारे पास।

मैंने उनका ब्लाउज उतार दिया. पाखी ने नीचे रेड ब्रा पहनी हुई थी. मै ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा वो जोर-जोर से आअअ…. उउउउ…. ईईईई की आवाज़े निकाल रही थी। अब मैंने उसकी ब्रा को उसके शरीर से अलग कर दिया और मस्ती मे उसके पूरे बदन को चाटने लगा। उसकी बगल के बालों को चाट रहा था. वो मेरे इस तरह चाटने से पागलो की तरह बड़बड़ा रही थी।

उसने भी एक हाथ से मेरे पैंट की ज़िप खोल दी और जैसे ही उसने मेरे लंड को अपने हाथ में लिया तो बोली- ओ माय गॉड!! इतना लंबा और इतना मोटा लन्ड मैंने कभी नही देखा। मेरे पति का लंड तो इसका आधा भी नही है।

मैंने कहा- पाखी डार्लिंग!! अब यह तुम्हारा है. इसे जी भर के प्यार करो.

इतना सुनते ही वो उस पर टूट पड़ी और अपने मुँह में लेके चाटने लगी। मेरा लन्ड उसके मुँह में नहीं आ रहा था. तो मैं उसके बालों को पकड़ के झटके देने लगा। लगभग 20 मिनट तक वो मेरे लन्ड को पीती रही. तभी मेरे लंड ने अपना लावा उसके मुँह में छोड़ दिया. जिसे वो पी गयी। अब मैने उसे बेड पर लिटा दिया और उसके पेटीकोट को उतार दिया। उसने नीचे काली नेट वाली पैंटी पहनी हुई थी. जिसमे से उसकी छोटी-छोटी झाटें साफ़ दिखाई दे रही थी. मैंने देर न करते हुए उसकी पैंटी को फाड़ दिया और उसकी चूत को चाटने लगा.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *