ठरकी सेठ, चोदू नौकर और चुदक्कड़ परिवार

नौकर सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि गांव के सेठ के नौकर ने सेठ को सेठानी की चुदाई करते देख लिया. लेकिन सेठ अपनी बीवी को पूरा मजा नहीं दे पाया था.

दोस्तो, कैसे हो सब लोग? मैं आपके लिए एक और गर्म सेक्स कहानी लाया हूं.

आप लोगों ने मेरी पिछली कहानी
मेरी विधवा बहन की जवानी का भोग
पढ़ी होगी. अगर नहीं पढ़ी है तो आप उस कहानी का आनंद लें.

ये नौकर सेक्स स्टोरी चुदाई की एक अनोखी मनघड़ंत कहानी है. कहानी लिखते हुए मुझे बहुत मजा आया. मैं उम्मीद करता हूं कि आपको भी मेरी स्टोरी पढ़ने में मजा आयेगा.
इसे पढ़कर आपको एक नयी तरह का आनंद मिलेगा.

अब मैं अपनी कहानी शुरू करता हूं.
दोस्तो, इस नौकर सेक्स स्टोरी के पात्रों से आपका परिचय करवा देता हूं.

मुख्य पात्र सेठ जौहरी लाल है. उसकी उम्र 45 साल है. पेट का मोटा और नियत से बहुत ठरकी. हर वक्त उसको चुदाई की तलब रहती थी.

सेठ की बीवी विमला जिसकी उम्र 44 साल थी. देखने में काफी मोटी, बिल्कुल 40 के साइज वाली।
उन दोनों का एक बेटा जो 19 साल का था और बेटी अनामिका उर्फ अनु जो 22 साल की थी. उसकी फिगर भी 34-28-36 थी.

अब कहानी के दूसरे मुख्य पात्र की बात आती है.
वो है इनका नौकर कल्लू.
22 साल का हट्टा कट्टा कल्लू जवान लड़का था. वो भी सेठ की तरह सेक्स करने का बहुत शौकीन था.

सेठ जी को चुदाई करने की आदत थी. वो हर रोज मौका ढूंढते थे कि किसी तरह चूत मारने को मिल जाये चाहे वो किसी की भी हो.
वो अपनी सेठानी की चूत तो मारता ही था. साथ ही गांव की अन्य महिलाओं की चूत चुदाई भी ब्याज वसूलने के बहाने करता था.

एक दिन उनका बेटा दुकान पर बैठा था. वो दोनों साथ ही थे. सेठ का मन चुदाई करने का हुआ तो वो बेटे को बोलकर घर जाने लगा. वो अपने घर आ गया.

सेठ घर पहुंचा और मोटी सेठानी को ढूंढने लगा. वो उसके कमरे में गया और देखा कि उसकी बीवी बेड पर लेटी हुई है. बीवी की मोटी गांड देखकर सेठ के मुंह में पानी आ गया.

उसने चुपके से कमरे का दरवाजा बंद किया और जाकर बेड के पास पहुंच गया.
वो धीरे से बेड पर लेट गया और सेठानी के मोटे मोटे चूतड़ों पर हाथ फिराने लगा.

सेठानी की आंख खुल गई तो सेठ जी बोले- मेरी जान … जल्दी से कपड़े उतार दे!
सेठानी बोली- मेरा मन नहीं है करने का!

फिर सेठ ने सेठानी की मोटी चूची मसलते हुए कहा- मन तो हो जाएगा. पहले कपड़े तो उतार दे?
अब सेठ ने खुद ही बीवी की साड़ी खींच ली और उसको पेटीकोट में कर दिया.
फिर उसने पेटीकोट का नाड़ा भी खोल दिया. एक्सएक्सएक्स वीडियो

सेठानी अब विरोध नहीं कर रही थी।

सेठ ने बीवी का पेटीकोट खोल कर अपना लंड बाहर निकाला और सेठानी की चूत पर रगड़ने लगा.
सेठानी की चूत में गर्मी पैदा होने लगी.
उसने टांगें खोलकर अच्छी तरह से सेठ का लंड अपनी चूत पर रगड़वाना शुरू कर दिया.

अब सेठ ने ब्लाउज खोलकर उसकी चूचियां थाम लीं और उसके होंठों को चूसते हुए उसकी चूत पर लंड को रगड़ते हुए टोपे को घुसाने की कोशिश करने लगा.

सेठानी की चूत को लंड का मजा मिला तो उसका मन भी लंड लेने का हो गया और वो सेठ को अपने ऊपर खींचने लगी.

जौहरी लाल ने एक धक्का अपने वजन के साथ मारा और उसकी सेठानी की चूत में उसका लौड़ा एकदम से अंदर सरक गया.
सेठ को मजा आ गया और वो सेठानी की चूचियों पर लेटकर उसके होंठों को चूसते हुए उसकी चूत मारने लगा.

अब सेठानी की आग भड़कने लगी और वो भी अपनी पहाड़ जैसी गांड उठा कर धक्के लगाने लगी।
सेठ जी अब मज़े से तेज तेज धक्के लगा रहे थे और दोनों को चुदाई का पूरा मजा आ रहा था.

सेठानी की पपीते जैसी चूचियां यहां वहां डोल रही थीं और वो उनको खुद ही सहला रही थी.
इतनी मोटी चूचियां थीं कि दोनों हाथों से एक चूची को दबाना पड़ता था.

अब सेठ की उत्तेजना बढ़ने लगी और वो अपने भारी बदन को सेठानी के ऊपर रगड़ते हुए तेजी से चोदने लगा.
सेठानी की चूत भी आग की भट्टी बन गयी थी. वो अपनी गांड को उठाते हुए सेठ के लंड को अपनी चूत में गोल गोल घुमाने की कोशिश कर रही थी.

कुछ देर तक दोनों इसी उन्माद में चुदाई का मजा लेते रहे और फिर एकाएक सेठ वासना की चरम सीमा पर पहुंच कर स्खलन के करीब आ गये. एकदम से सेठ की हवस वीर्य के रूप में सेठानी की चूत में खाली हो गयी.

सेक्स का बवंडर जौहरी लाल को शांत कर गया.
सेठ के लंड का पानी सेठानी की चूत में भर चुका था और सेठ अपनी भारी बीवी के ऊपर ही गिर गया.

सेठानी को उसका बोझ ज्यादा देर सहन नहीं हुआ और उसने अपने पति को अपने ऊपर से एक तरफ धकेल दिया.

सेठ के एक तरफ लेटते ही सेठानी अपनी चूत को मसलने लगी.
जौहरी लाल ने देखा तो बोला- क्या हुआ जान … तेरी चूत का पानी नहीं निकला क्या?

उसके सवाल पर सेठानी चिल्लायी- ये आज की नयी बात है क्या? आपको कितनी बार बोल चुकी हूं कि गोली खाकर किया करो. मेरी चूत तो प्यासी रह जाती है और खुद निपट लेते हो.

सेठ बोले- ठीक है, अगली बार शहर से चुदाई वाली गोली लाऊंगा. तेरी चूत को आग को अच्छे से बुझा दूंगा.
सेठानी अपनी चूत सहलाती रह गयी और सेठ वहां से चले गये.