आंटी की तन्हाई चूत चोदन से मिटाई

मेरे दोस्तो, मेरा नाम विजय है. मैं एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ. मैं अब तक अनमैरिड हूँ. मैं गुडगांव में रहता हूं.

यह कहानी अभी कुछ दिनों पहले की है. एक बार में मोटोरोला के सर्विस सेंटर गया था. मैं एमजी रोड मेट्रो स्टेशन पर पहुंचा और वहां से मैं सर्विस सेंटर पर चला गया. मैंने अपना फोन सबमिट किया और मैं इंतजार कर रहा था. कुछ देर इंतजार करने के बाद मेरे पास में वेटिंग लाइन में एक 40 वर्ष की महिला आ कर बैठ गई. वह भी फोन को सबमिट कर उसको वापस पाने का इंतजार कर रही थी.

उसी बीच एक कर्मचारी हमारे पास आया और वो मेरे पास आकर बोला- आपका फोन 3 घंटे बाद मिल जाएगा.
उसकी बात सुनकर वो महिला भी उससे पूछने लगी- और मेरा फोन कितनी देर में मिलेगा?
उस कर्मचारी ने उस महिला के फोन के लिए देखा और कहा आपका फोन भी तीन घंटे में ही मिल पाएगा.

मैं तो उस कर्मचारी की बात सुन कर शांत बैठ गया, पर वह महिला बोली कि मैं 3 घंटे तक क्या करूंगी?
वो आदमी उससे कुछ नहीं बोला और वापस चला गया. पर वो औरत भुनभुनाने लगी.

इसी बीच मैंने अपना दूसरा फोन जेब से निकाला और आसपास के बीयर बार की लोकेशन देखने लगा. तो उस महिला ने मेरे फोन में ये देख लिया.
वो मुझसे बोली- क्या तुम आस-पास के किसी बीयर बार का बता सकते हो?
मैंने तो सर्च किया ही था. उधर से कुछ ही दूरी पर एक बियर बार था. मैंने उसको उस बार की लोकेशन बताई.

उसके बाद उसने कहा- तुम बार की लोकेशन ही सर्च कर रहे थे न? तुम्हें भी बीयर बार जाना है क्या?
मैंने कहा- हां इधर बैठ कर क्या करूंगा. मुझे भी वहीं जाना था, इधर 3 घंटे तक बैठने से अच्छा है कि उधर बैठ कर संडे एन्जॉय करूं.
तो वह हंस कर बोली- हां यही मेरा विचार है. चलो तुम मेरी कार में चलो. हम दोनों ही चलते हैं.

मेरे काफी मना करने के बाद भी वह नहीं मानी और मुझे जबरन हाथ पकड़ कर अपने साथ ले गई.

हम दोनों वहां पहुंचे, तब तक वो मुझसे काफी बात कर चुकी थी. बार के अन्दर पहुंच कर उस आंटी ने एक वेटर को बुलाया और खुद के लिए बियर आर्डर की. आंटी ने मुझसे पूछा, तो मैंने भी बियर का आर्डर दे दिया.

ये बियर के ब्रांड काफी तेज अल्कोहल वाले थे. बियर पीते पीते वो अपने बारे में बताने लगी. उसने बताया कि उसके हस्बैंड दुबई में बिजनेसमैन है और वह गुडगांव में फ्लैट लेकर अकेली रहती है.

मैं उसकी हरकतों को देखता हुआ बियर के नशे का मजा ले रहा था. वो एक बड़े गहरे गले का टॉप पहने हुए थी जिसमें से उसकी दूध घाटी मेरे लंड को खड़ा किए जा रही थी. वो भी मेरी निगाहों को अपने मम्मों पर पाकर खुद झुक झुक कर अपनी फिल्म दिखा रही थी.

फिर कुछ देर बाद उसने मुझसे मेरे बारे में पूछा, तो मैंने बताया- मैं गुडगांव में रूम लेकर रहता हूँ और जॉब करता हूँ.

उसके साथ बातें करते करते 3 घंटे कब बीत गए, पता ही नहीं चला. हम दोनों ने दो दो बियर हलक के नीचे उतार ली थीं. बियर का नशा हम दोनों को मस्त कर रहा था. खैर वो भी पियक्कड़ थी इसलिए उसके लिए बियर पीकर कार चलाना कोई नई बात नहीं थी. हम दोनों कार से वापस सर्विस सेन्टर गए, वहां जा कर अपना अपना मोबाइल लिया.

फिर मैंने आंटी से कहा- ओके अब मैं चलता हूँ.
मैं जाने लगा, तो आंटी ने मुझे रोका और बोली- कल वैसे भी संडे है, तुम्हें ऑफिस तो जाना नहीं है, तो आज डिनर के लिए मेरे साथ चलो. फिर तुम डिनर करके चले जाना.

उसका साथ मुझे भी अच्छा लग रहा था. तीन घंटों में हम दोनों काफी हद तक एक दूसरे से खुल चुके थे. वो भी मुझे एन्जॉय के मूड में दिखी. मैंने भी सोचा कि चलो इस समय फ्री तो हूँ ही. देखता हूँ कि आंटी क्या और किस हद तक मजा दे सकती है.
मैं उसके साथ जाने को रेडी हो गया. उसने नीचे आकर अपनी कार स्टार्ट की. मैं उसके साथ बैठ गया.

रास्ते से उसने एक शराब की दुकान पर गाड़ी रोकी और मुझे दो हजार का नोट देकर वाइन की बोतल ले आने के लिए कहा. मैंने पैसे के लिए मना किया और मैं उसकी पसंद की वाइन ले आया. पास ही सिगरेट की दुकान से मैंने गोल्डफ्लेक सिगरेट का पैकेट ले लिया.

वापस कार में आकर बैठा, तो आंटी ने कार स्टार्ट की और कुछ ही देर में हम दोनों उनके फ्लैट पे पहुंच गए.
आंटी का फ्लैट काफी सुंदर था. फ्लैट के इंटीरियर पर काफी ध्यान दिया गया था, ये काफी कीमती था. वो आंटी काफी पैसे वाली लग रही थी.

हम दोनों अन्दर आ गए थे. मैंने उससे वाशरूम का पूछा, तो वो मुझे लेके गयी. मैं वाशरूम में जाके हल्का होके बाहर निकला तो देखा कि आंटी ने नाइटी पहनी हुई थी. आंटी बोली कि बड़ी जल्दी आ गए. मैं तुम्हारे लिए ये ट्राउजर और टीशर्ट लेकर आई थी. वापस जाकर बाथ ले लो, फिर तसल्ली से डिनर का मजा लेते हैं.
मुझे भी कुछ यूं ही लग रहा था कि नहा लिया जाए. मैं कपड़े लेकर वापस बाथरूम में घुस गया और कुछ ही मिनट में शावर लेकर नहा कर बाहर आ गया.

अब मैं आंटी की ड्रेस पर ध्यान दिया तो उसकी नाईटी तो एकदम ट्रांसपैरेंट थी. नाईटी के अन्दर उसने इरोटिक ब्रा और पैंटी पहनी हुई थी.
मुझे देख कर वो सोफे पर बैठ कर सेंटर टेबल पर वाइन के पैग बनाने लगी. मैंने सिगरेट जलाई तो उसने एक खुद के लिए भी जलाने के लिए कहा. मैंने उसके आगे सिगरेट की डिब्बी बढ़ा दी. लेकिन उसने मेरे हाथ की सिगरेट ले ली और मुझे दूसरी सिगरेट जलाने की कह दी.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *