भाभी की गांड का उपहार

loading…

फिर जब में उन्हें अपनी गोद में लेकर बेडरूम में ले गया और मैंने उन्हें बिस्तर पर लेटा दिया तो वो मुझसे कहने लगी कि सन्नी प्लीज अब तुम भी नंगे होकर मेरे ऊपर आ जाओ। अब मैंने हंसकर उनको कहा कि यह काम तो आपको ही करने होगा और फिर में पेंट शर्ट पहने अपनी नंगी भाभी के पास में लेट गया और सामने वाले बड़े आकार के कांच में हमारा सेक्स का वो द्रश्य साफ साफ दिख रहा था। दोस्तों वो क्या मस्त समा था? फिर भाभी ने जल्दी जल्दी मेरी पेंट, शर्ट को उतार दिया और अब मैंने भी उनका साथ देते हुए अपनी शर्ट को भी उतार दिया। दोस्तों भाभी मुझसे उम्र में पूरी 14 साल बड़ी थी, लेकिन वो क्या मस्त चीज़ नजर आ रही थी। फिर हम लोग थोड़ी देर एक दूसरे की बाहों में लिपटे एक दूसरे के शरीर से खेलते रहे और इधर उधर चूमते चाटते रहे। फिर मैंने उनको कहा कि भाभी मुझे आपकी चूत पास से छूकर देखनी है। अब भाभी कहने लगी कि हाँ तो देखो ना तुम मुझसे पूछते क्या हो? मुझसे यह बात कहकर भाभी ने तुरंत ही अपने दोनों पैरों को पूरा फैला दिया। दोस्तों वाह क्या मस्त द्रश्य था। उनकी चूत का दाना हीरे की तरह चमक रहा था और मैंने चूत को पूरी तरह फैलाकर बड़े अच्छे से उसका दर्शन किया जहाँ तक चूत के अंदर निगाह जा सकी में देखता गया। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर भाभी ने अचानक से मेरे सर को पकड़कर अपनी चूत की तरफ खींचकर मुझसे कहा कि चूम लो तुम इसको सन्नी। अब भाभी के कहते ही उनकी चूत को चूमने लगा और अपने आप ही उसको चाटने भी लगा था और भाभी अपनी गांड को उठा उठाकर मुझसे अपनी चूत को चटवा रही थी और भाभी ऊऊईई करने लगी। अब में भाभी कहने लगा और तभी वो बीच में बोल पड़ी और कहने लगी तुम मुझे भाभी नहीं अब शिवि कहो सन्नी। फिर में खुश होकर चूत को अपनी जीभ से चाटते हुए बूब्स को भी रगड़ रहा था। मेरी प्यारी शिवी ऊऊईईई करने लगी और भाभी ने अपने दोनों पैरों से मेरे सर को जकड़ लिया और वो अपनी गांड को उठा उठाकर मेरे सर के बाल सहलाने लगी और मेरा लंड प्यास से तड़प रहा था। फिर मैंने कहा शिवि प्लीज तुम अब मेरे लंड का भी कुछ करो ना और शिवि बोली कि हाँ ठीक है में तुम्हारे ऊपर आ जाती हूँ उसके बाद हम एक दूसरे को असली मज़ा दे सकेंगे। फिर भाभी मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को जितना भी हो सकता था अपने मुहं में लेकर चूस रही थी जिसकी वजह से तो मुझे भी बड़ा मज़ा आने लगा था और भाभी को दुगना मज़ा आ रहा था।

फिर कुछ देर मेरा लंड चूसने के बाद भाभी मुझसे कहने लगी कि तुम अब अपने लंबे और मोटे लंड से मेरी चूत की प्यास को बुझाओ और यह कहकर वो सीधी होकर लेट गयी। अब में भाभी के दोनों पैरों के बीच में आ गया और अपना लंड मैंने उनकी बिना बालों की चूत पर रख दिया। भाभी ने मेरी कमर अपने दोनों पैरों से जकड़ ली और वो मेरी जीभ को चूसने लगी। दोस्तों मेरे लंड को चूत का छेद अपने आप मिल गया था और फिर भाभी अपनी गांड को ऊपर उठाकर मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर लेने की कोशिश करने लगी थी। अब मेरा लंड भाभी के थूक से तर था और भाभी की चूत भी अपना पानी छोड़ रही थी और तभी मैंने सांस खींचकर एक जोरदार धक्का मार दिया, जिसकी वजह से मेरा चार इंच लंड उनकी चूत में फिट हो गया और भाभी दर्द से मरी जा रही थी, लेकिन वो अपने होंठो को भींचकर अपना दर्द बर्दाश्त कर रही थी। फिर मैंने अपना लंड कुछ इंच बाहर निकालकर एक और ज़ोर का धक्का लगा दिया। इस बार और भाभी दर्द की वजह से चीख पड़ी ऊहह ऊउईईइ सन्नी तुम्हारा तो बहुत ज़्यादा बड़ा है, प्लीज तुम धीरे धीरे अपना लंड अपनी भाभी की चूत में डालो ऊऊह्ह्ह्ह। फिर में कुछ देर रुककर उनके होंठो को चूमने लगा था और नीचे से धक्के भी लगता रहा और मेरे दोनों हाथ जो अब तक खाली थे, में अब उनसे शिवि भाभी के बूब्स को मसल रहा था।

फिर कुछ देर के बाद भाभी का दर्द कम हुआ तो उसके बाद भाभी मुझसे कहने लगी कि अब में देखूं कि तुम्हारे लंड में कितना दम है? अब मैंने उनके मुहं से यह बात सुनकर जोश में आकर अपना पूरा लंड बाहर करके पूरी ताक़त से मैंने अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया और बोला लो फिर देखो मेरे लंड में कितना दम है, में धक्के पे धक्के लगा रहा था और भाभी दर्द से ओह्ह्ह आह्ह्ह्ह मारो मारो और ज़ोर से चोदो अपनी भाभी की चूत को तुम्हारा लंड मेरी चूत की जड़ तक पहुंच रहा है आह्ह्ह्हहह ऊऊईईईईईई। दोस्तों वाह क्या मस्त चूत थी भाभी की? में ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा था और वो भी उनकी रफ़्तार से कमर को हिलाने लगी थी ओह्ह्ह्ह सन्नी तुम तो बहुत अच्छा मज़ा दे रहे हो, तुम तो किसी अनुभवी की तरह मेरी चुदाई कर रहे हो। अब में धक्के देते हुए उसके बूब्स को भी चूस रहा था ओह्ह्ह्ह वाह क्या मस्त सुगंध आ रही थी। फिर करीब 25 -30 धक्कों के बाद भाभी मुझसे कहने लगी, ऊह्ह्ह्ह सन्नी में अब झड़ने वाली हूँ और तेज मारो मेरी चूत आहह्ह्ह हाँ इस तरह हाँ और ज़ोर से बहुत अच्छे आईईई यह सब कहते हुए वो झड़ने लगी और में बिना रुके उनकी चूत को लगातार धक्के देकर चोदता फाड़ता रहा।