भतीजी की कुँवारी चूत की सील तोड़ी

बड़े भाई की बेटी यानि मेरी भतीजी कमसिन जवानी के रस से भरी है. मैं उसकी चूत चुदाई करना चाहता था पर रिश्तों में चुदाई में डर लगता है. तो मैंने उसकी कुंवारी चूत कैसे फाड़ी?

मेरे अन्तर्वासना के पाठक दोस्तो, आप सभी को नमस्कार, मेरा नाम जयेश है. मैं मध्य प्रदेश का रहने वाला हूँ. कभी मैं भी आप सभी की तरह अन्तर्वासना का रेगुलर पाठक हूँ. आज मैं अपनी पहली सेक्स कहानी लिखने जा रहा हूँ. आशा करता हूँ, आप सभी मुझे प्रोत्साहित करेंगे.

मैं अपने बारे में बताते हुए इस सेक्स कहानी की शुरूआत कर रहा हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है, रंग सांवला है, शरीर ठीक-ठाक है और मेरा लंड 6.5 इंच का है. चुदाई में मेरी ख़ास रूचि है. मैं अपनी मौसी को भी चोद चुका हूँ, जोकि इस बार की चुदाई का सबब बनी.

यह एक साल पहले की बात है, जब मैं अपने बड़े भैया के घर दिल्ली गया था. वो वहां नौकरी करते हैं. उनके घर में तीन लोग हैं, भैया भाभी और कमसिन देसी जवानी के रस से भरी मेरी जवान भतीजी सोनिया.
मैं उसके जवान सौंदर्य की जितनी तारीफ करूं, उतनी कम है. उस पर एक बार जिसकी भी नजर पड़ जाए, तो समझो वो उसके शरीर को पूरा निहारे बिना नहीं रहेगा.

उसके फिगर की यदि मैं कल्पना करता हूँ … तो ये 34-28-36 का होगा. मैंने कभी नापा नहीं है. सोनिया के मम्मे बड़े बड़े हैं, जो किसी को भी उत्तेजित कर दें. उसके तने हुए दूध टी-शर्ट के अन्दर ऐसे लगते हैं, जैसे अभी ही बाहर निकल कर आ जाएंगे. उसकी कमर माशाल्लाह … क्या तारीफ करूँ … देखते ही हाथ घुमाने का मन हो जाता है और गांड के बारे में तो सोच कर लंड फनफनाने लगता है. सच में यूं लगता है कि उसकी जीन्स फाड़ कर गांड में अभी लंड पेल दूं.

एक दिन दोपहर की बात है, जब भैया भाभी दोनों काम पर गए थे. मैं दोपहर में लेटा हुआ था और मेरी भतीजी सोनिया बाहर हॉल में टीवी देख रही थी.

थोड़ी देर में उठकर मैं भी टीवी देखने चला गया. वो कोई सास बहु वाला सीरियल देख रही थी. हम दोनों एक ही सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहे थे कि तभी अचानक हीरो हीरोइन के बीच एक अन्तरंग दृश्य आया, जिसमें हीरो हीरोइन बिस्तर पर लेट कर चुम्बन ले-दे रहे थे.

मेरे मन में भी ऐसा गरम सीन देख कर लड्डू से फूट रहे थे.

तभी अचानक मेरी कमसिन भतीजी सोनिया ने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया. मेरे शरीर में मानो झटका सा लगा. मैंने आव देखा न ताव उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

मुझे ऐसा लग रहा था मानो मैं जिसे सपनों में चोदता था, आज उसे हकीकत में चोदूंगा.

मैं उसके होंठों को चूसने लगा, वो भी मेरे करीब आकर मेरा साथ देने लगी. उसके हाथ मेरी पीठ पर थे. वो मुझे कसके पकड़ रही थी. मैं उसे बेतहाशा चूमते जा रहा था. मैंने एक हाथ उसके बोबे पर रखा और दूसरे हाथ से उसकी गांड को मसलने लगा ताकि वो भी गरम होने लगे.

अब हम दोनों एक दूसरे में पूरी तरह खो चुके थे. उसने मेरी शर्ट उतारी और मेरी छाती के बालों को सहलाने लगी. मैंने भी उसकी टी-शर्ट उतारी और उसकी चुचियां देखने लगा और उन्हें दबाने लगा.

वो बोली- चाचू, इन्हें भी ऐसे चूसो, जैसे उस दिन मौसी के चूसे थे.
उसकी बात सुनकर मैं भौंचक्का रह गया. मैंने बोला- तुम्हें कैसे पता?
वो बोली- मैंने आप दोनों को उस दिन चुदाई करते हुए देखा था, तभी से मैं आपसे चुदना चाहती थी. यह जवानी मैंने आपके लिए ही संभाल रखी है, आज मुझे इतना चोदो कि मेरा जी भर जाए. चोद दो … मुझे चोद दो.

मैं उसके बोबे चूसने लगा. वो सिसकारियां भर रही थी. आह आह आह्ह्ह …

उसका एक हाथ मेरी पेंट के ऊपर घूम रहा था. वो पेंट के ऊपर से ही लंड सहला रही थी. वो मुझे चूमने लगी.

मैंने उसकी जीन्स को उतारा. अब मैं उसकी जांघों पर हाथ घुमाने लगा. वो तड़पने लगी. मैंने उसके बोबे चूसते हुए उसकी चूत पर हाथ घुमाया, वो कंपकंपाने लगी, उसकी सिसकारियों की आवाज तेज हो गयी- आह्ह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह ओह्ह्ह्ह करो, चाचू मुझे करो.

अब मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर लगा दी और चुत चाटने लगा. वो सहन नहीं कर पाई और मुझे बांहों में कसने लगी और उसकी ‘आह्ह्ह आह्ह्ह …’ की आवाजों से हॉल गूंज उठा.

मैंने जीभ और अन्दर डाल दी.
वो कराहने लगी- आंह चाचू छोड़ दो … मुझसे सहन नहीं हो रहा है … आह्ह आंह्ह ऊह्ह्ह माय गॉड आह्ह्ह.

उसकी कामुक आवाज से मैं लगातार उत्तेजित होता जा रहा था. अब हम दोनों का शरीर पसीने से भीगने के कारण चिपका जा रहा था. हम दोनों इन रोमांचक पलों का आनन्द ले रहे थे.

फिर मैंने उससे पूछा- मेरा लंड चूसोगी?
उसने ना बोला.

फिर भी मैंने उसे चाटने के लिए राजी कर लिया. उसने जैसे ही मेरे लंड पर अपनी जीभ लगायी, मेरे अन्दर मानो एक लाख वोल्टेज का करंट दौड़ गया.

मेरे मुँह से सिसकारियां निकल उठीं- आह्ह्ह सोनिया चूसो … इसे पूरा मुँह में ले लो … मजा आ जाएगा … चूस डालो इसे केला समझ कर.

अब मैं उसकी चूत और वो मेरा लंड चाटने लगे. फिर मैंने उसे अपने ऊपर से उतारा और उसकी चूत में उंगली डाली … ताकि मैं अपना लंड उसमें घुसाने के लिए जगह बना लूं.