चुदाई ऑन लाइन से ऑफ लाइन तक

सुधा कहने लगी- अब बिलकुल नहीं रहा जा रहा. प्लीज अब चोद भी दो!

मैंने अपना लंड उसकी चूत पे सटा दिया. मेरा ये पहला ही चुदाई का अनुभव था तो मुझे कुछ ज्यादा अनुभव नहीं था. फिर सुधा ने अपने हाथ में मेरा लंड लिया और बोली- धक्का मारो!

मैंने वैसा ही किया. पहली बार में ही लंड आधा घुस गया. फिर 2-3 धक्कों के बाद लंड पूरी तरह चूत में समा गया. वो पागल होने लगी. मुझे भी लगा जैसे मैंने अपना लंड किसी तंदूर में घुसा दिया हो. उसकी चूत वाकई अन्दर से काफी गर्म थी.

अभी हमने बमुश्किल 5 मिनट की ही चुदाई की थी कि मुझे लगा अब मैं झड़ जाऊँगा. शायद पहली बार होने की वजह से मैं जल्दी ही झड़ रहा था, लेकिन बहुत दिनों के बाद हुयी चुदाई की वजह से सुधा भी साथ में ही झड़ रही थी.

हम दोनो ने साथ में बाथरूम में जाकर खुद को साफ़ किया और फिर खाना आर्डर कर दिया. खाने के बाद हमने चुदाई का दूसरा दौर शुरू किया. इस बार हमने 20 मिनट तक जम कर चुदाई की. उस पूरे दिन हमने 5 बार चुदाई की और मैंने उसकी गांड भी मारी.

उस दिन के बाद हम अक्सर मिलते रहे और काफी बार सेक्स किया. फिर किसी वजह से मैं अपने घर वापिस आ गया और सुधा के साथ संपर्क भी टूट गया. आज इतने सालों बाद मैं फिर अकेला हूँ. अगर कोई भाभी, आंटी या विडो मेरे साथ फ्रेंडशिप करना चाहे तो मुझे मेल करे.