घर की शिफ्टिंग के दौरान

hindi sex stories

मेरा नाम प्रिया है मैं पानीपत की रहने वाली हूं, मेरी उम्र 27 वर्ष है और मैं दिल्ली में जॉब करती हूं। मैं एक कंपनी में नौकरी करती हूं, उस कंपनी में मुझे काम करते हुए दो वर्ष हो चुके हैं। मुझे दिल्ली आए हुए 3 वर्ष हो चुके हैं और मैंने इन 3 वर्षों में दो कंपनियां बदल ली हैं और यहां पर मुझे अच्छी तनख्वाह मिल रही है इसलिए मैं यहीं पर काम कर रही हूं। यब कंपनी मेरे घर के पास ही है। मैंने जहां पर अपना घर लिया हुआ है उससे कुछ दूरी पर ही मेरा ऑफिस है इसलिए मुझे आने जाने में कोई भी दिक्कत नहीं होती। मेरे साथ मेरी रूम पार्टनर रहती है, उसका नाम रंजना है। उसका व्यवहार भी अच्छा है परंतु कुछ दिनों से वह मुझसे बहुत ही गलत तरीके से बात कर रही है। मैं फिर भी कोशिश करती हूं कि मैं अर्जेस्ट करूं लेकिन अब मुझे लगने लगा है कि शायद मुझसे उसके साथ एडजेस्ट नहीं हो पाएगा।

मेरी मुलाकात रंजना से दिल्ली में ही हुई थी, हम दोनों साथ में अच्छे से रहते थे परंतु अब धीरे-धीरे उसका व्यवहार मेरे प्रति बदलने लगा है। मैंने उससे इस बारे में बात भी की लेकिन वह मुझसे बिल्कुल भी बात नहीं करती और हमेशा ही मुझे उल्टा जवाब दे देती है, इसीलिए मैं जब भी घर जाती हूं तो मैं अपने कमरे में ही बैठी रहती हूं और अपने कमरे से ही काम करती हूं, यदि मुझे ऑफिस का कोई काम करना होता है तो मैं अपने रूम से ही काम करती हूं। रंजना और मेरी बात बहुत कम होती है लेकिन जिस दिन छुट्टी होती है उस दिन वह भी घर पर ही रहती है और उस दिन वह अपना सारा काम करती है इसीलिए उस दिन उससे मेरी मुलाकात हो जाती है। उसके और मेरे बीच में पहले बहुत अच्छा रिलेशन था परंतु अब वह बिल्कुल बदल चुकी है क्योंकि उसने एक बार मुझसे कुछ पैसों को लेकर मदद मांगी थी, मैंने उसे कुछ पैसे दिए थे और उसने मुझे कहा था कि मैं कुछ समय बाद तुम्हें पैसे लौटा दूंगी लेकिन उसने अभी तक मुझे वह पैसे नहीं लौटाए हैं इसी वजह से मैंने उसे एक दो बार कहा भी कि मुझे पैसों की आवश्यकता है यदि तुम मुझे वह पैसे लौटा दो तो मैं अपने घर पर कुछ पैसे भिजवा दूंगी।

वह मुझे कहती रही कि मैं कुछ दिनों बाद तुम्हारे पैसे तुम्हें दे दूंगी लेकिन उसने अभी तक मुझे मेरे पैसे नहीं दिये। एक दिन मैंने उसे कह दिया कि मुझे पैसो की बहुत आवश्यकता है, उस दिन उसे मेरी बात का बुरा लग गया और उसके बाद से उसका व्यवहार मेरे प्रति बिल्कुल बदल गया है इसीलिए मैं अब सोचने लगी हूं कि मैं कहीं और शिफ्ट कर लूंगी। मेरे ऑफिस में ही एक लड़का है उसका नाम महेश है, वह मेरा बहुत अच्छा दोस्त है और हमेशा ही मेरी मदद करता है। ऑफिस में सबसे ज्यादा मेरी उसी के साथ बात होती है और वह मुझे हमेशा ही समझाता है कि तुम लोगों पर इतनी जल्दी भरोसा मत कर लिया करो क्योंकि उसे यह बात पता है कि मैंने रंजना को पैसे दिए थे लेकिन उसने मुझे अभी तक वह पैसे नहीं लौटाए हैं। वह भी कभी कबार मेरे घर पर आ जाता है इसीलिए उसे हम दोनों के बारे में सारी जानकारी है। उसने भी इस बारे में कई बार रंजना से बात की लेकिन उसके बावजूद भी रंजना ने वह पैसे मुझे नहीं लौटाए। महेश हमेशा ही मुझे बहुत समझाता रहता है और कहता है कि तुम ऐसे ही किसी पर भी भरोसा मत कर लिया करो। मैंने उससे जब इस बारे में बात की, कि मेरी और रंजना कि अब बिल्कुल भी बन नहीं रही है इसीलिए मैं सोच रही हूं कि मैं कहीं और शिफ्ट हो जाऊं। महेश मुझे कहने लगा तुम चिंता मत करो मैं तुम्हारे लिए कहीं अच्छी जगह देख लेता हूं। महेश दिल्ली का ही रहने वाला है, उसने मुझे कहा कि मैं अपने घर के आस पास नहीं पर तुम्हारे लिए रहने के लिए अच्छी जगह देख लेता हूं। मैंने उसे कहा ठीक है तुम मेरे लिए कोई ऐसी जगह देख लेना जहां पर मैं कंफर्टेबल हो कर रह सकू, क्योंकि अब मैं अकेले ही रहना चाहती हूं। मैं नहीं चाहती कि मैं अब किसी के साथ में रहा हूं इसीलिए यदि तुम मेरे लिए वन रूम किचन देख लो तो मैं उस में एडजस्ट कर लूंगी। उसने मुझे कहा ठीक है मैं तुम्हारे लिए ऐसी कोई जगह देख लेता हूं। महेश मुझे हमेशा ही ऑफिस में भी सपोर्ट करता है और मैं उसे पिछले दो सालों से जानती हूं। जब से मैंने यह ऑफिस ज्वाइन किया है, तब से ही मेरी बातचीत महेश से है और वह दिल का बहुत अच्छा है। आज तक उसने कभी भी मुझे किसी चीज के लिए मना नहीं किया और मुझे जब भी उसकी आवश्यकता होती है तो वह तुरंत ही मेरी हेल्प कर देता है।

कुछ दिनों बाद महेश ने मुझे कहा कि मेरे घर के पास में ही एक वन रूम किचन खाली है। वह लोग मेरे परिचित हैं और तुम्हें वहां पर कोई भी दिक्कत नहीं होगी। मैंने उसे कहा कि तुम मुझे वहां घर दिखा दो, मैं जब महेश के साथ गई तो उसने मुझे वह रूम दिखा दिया। मुझे वह घर बहुत अच्छा लगा क्योंकि वह काफी बड़ा था और मेरे लिए सही भी था। महेश ने मुझे मकान मालिक से भी मिलवा दिया और वह लोग कहने लगे आपको यहां किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी क्योंकि महेश के परिवार से मैं बहुत ही पहले से परिचित हूं। अब मैं और महेश वहां से लौट आए। महेश उस दिन मुझे अपने घर ले गया, मैं उसके घर में सब लोगों को पहले से ही जानती हूं इसीलिए वह लोग मुझसे पूछने लगे कि चलो तुम्हारे रहने का प्रबंध हो गया, यह बहुत अच्छी बात है और अब तुम हमारे पड़ोस में आ गई हो तो तुम्हें किसी भी प्रकार की दिक्कत होगी तो तुम हमें बता सकती हो। मैंने उसी दिन वहां पर शिफ्ट कर लिया और रंजना से कह दिया कि मैं दूसरी जगह रह रही हूं। उसने मुझे कुछ भी नहीं कहा, उसके बाद मैंने भी उससे ज्यादा बात नहीं की और अपना सामान नए रूम पर शिफ्ट कर दिया।