गर्लफ्रेंड की चुदाई उसकी सहेली के सामने

अब मुझसे भी रुका नहीं जा रहा था. मैंने उसको झटके से उठाया और अपने सामने बैठा दिया. अपना लोअर और चड्डी दोनों एक साथ नीचे करके अपना लंड सीधे उसके मुँह में डाल कर उसके सर को पीछे से पकड़ के चोदने लगा. मेरा लंड उसके गले के अन्दर तक जा रहा था, जिससे उसके मुँह से गूं गुं की आवाज़ निकलने लगी. उसे सुनकर मैं और जोश में उसका मुँह चोदने लगा. उसका मुँह चोदते चोदते, मैं उसके सूट के ऊपर से उसकी चूचियों को मसलने लगा.

आज तो साली ने ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी. ये जान कर मैं और जोश में उसका मुँह चोदने लगा और उसके निप्पल को पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से खींचने लगा, जिससे वो पागल हो गई. वो अपनी बुर को पैंटी के ऊपर से रगड़ने लगी और मेरी गोलियों को भी दबाने लगी.

अब मुझे ख़ुद को रोकना मुश्किल हो गया और मैंने अपना सारा माल उसके गले में ही निकाल दिया. उसने मेरे लंड रस को मज़े से पूरा गटक लिया और फिर लंड को चाट कर पूरा साफ़ कर दिया.

अब हमें किसी भी हालत में चुदाई की ज़रूरत लग रही थी. मैं उसको लेकर उसके घर की सीढ़ियों वाले हिस्से में आ गया. ये हिस्सा एक तरह से एक बंद एरिया सा था, जिधर से बाहर वाले को कुछ भी नहीं दिखाई दे सकता था.

इधर लाके मैंने उसको चूमना शुरू कर दिया, जिसका उसने भी पूरे ज़ोर से मेरे होंठ को काट कर जवाब दिया. मैं पूरी तरह से पागल हो गया और उसकी चूचियों को दबाने लगा. उसकी गांड को अपने लंड की तरफ़ दबाने लगा. अब हम दोनों से नहीं रुका जा रहा था. मैंने जल्दी से उसके कपड़े वहीं पर उतार दिए और उसको नंगी कर दिया. साथ ही मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए. मैं उसको झुका कर अपना लंड फिर से चुसवाने लगा.

पूजा लंड बहुत मस्त चूसती है, वो मेरे लंड को पूरा अपने गले तक ले जा रही थी और मेरी गोटियों को दबा भी रही थी. इससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मस्ती में मेरे मुँह से सीत्कार निकल रही थी. मुझे लगा कि कहीं ये साली मेरा माल चूस कर ही ना निकाल दे, इसलिए मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाल लिया. मैंने उसको पीछे की तरफ़ सीढ़ी पर बैठा दिया और उसकी मस्त टांगों को फैला कर उसकी चुदासी चूती हुई चूत पर अपना मुँह लगा कर चूसने लगा.

मेरे इस हमले के लिए वो तैयार नहीं थी. उसके मुँह से ज़ोर की सिसकारी निकली. उसने मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबा दिया और झड़ने लगी, जिसको मैंने पूरा चाट लिया. मेरा पूरा मुँह उसके पानी से गीला हो गया था.

फिर मैं उठा और उसकी टांगों को फैला कर अपने लंड पूरे झटके से उसके चूत में उतार दिया और उसी पल उसके बड़े बड़े चुचों को ज़ोर से दबा दिया. इस दोहरी चोट को वो सह नहीं पाई और बहुत ज़ोर से चीख़ पड़ी उम्म्ह… अहह… हय… याह… जिसको मैंने अनसुनी करके अपना लंड पूरा निकाल कर वापस से एक ज़ोर का झटका दे मारा. इससे मेरी जाँघ उसकी जाँघ से ज़ोर से जा टकराई. इससे उसको ज़ोर का झटका लगा और वो ऊपर की तरफ़ को खिसक गई. उसके बाद मैं उसकी दोनों चूचियों को पकड़कर उसको ज़ोर ज़ोर के झटके मारने लगा. इस वजह से उसकी आंखें बंद हो गई थीं और वो मज़े ले ले कर आवाज़ निकाल रही थी.

अब पूजा अपने मुँह से गर्म सीत्कारें निकाल रही थी. चुदाई की ख़ुमारी में वो अपनी कमर को उठा कर पूरा लंड ले रही थी.

कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसको कुतिया बनने को बोला … क्योंकि उसकी गांड इतनी मस्त है कि चोदते समय उसको देखने का अपना ही मज़ा है. वो भी पीछे से लंड लेने को पूरा एन्जॉय करती है.

वो भी तुरंत सीढ़ी की ग्रिल पकड़ कर कुतिया बन गई. उसकी गांड एकदम हाहाकार मचा रही थी, इस पोजीशन में मुझे उसकी गांड का भूरा छेद दिख रहा था, जो बहुत दिलनशी लग रहा था. उसके नीचे उसकी मुनिया, जो पूरी तरह से उसके पानी से चमक रही थी. उसके मोटे मोटे होंठ मस्त लग रहे थे. अगर ये दृश्य कोई नामर्द भी देख लेता, तो उसका भी लंड खड़ा हो जाता.

ये देख कर मैं पागल हो गया और झुक कर उसकी गांड के छेद को चूमने लगा और उसके गांड को फैला कर अपनी जीभ उसमें डाल कर उसको कुरेदने लगा. उसको मजा आने लगा था, सो उसने अपनी गांड और फैला दी. मैंने अपने अंगूठे को उसके चूत में डाल दिया और उसके दाने को उंगलियों से मसलने लगा. इससे वो पागल हो गई और ज़ोर से आवाज़ निकालने लगी.

वो चुदास भरे स्वर में कहने लगी- आह … जान प्लीज़ लंड डाल दो, अब नहीं सहा जा रहा है.

मगर मैं अभी उसकी मस्त गांड को अपने जीभ से चोदने में लगा था और उंगलियों से उसके दाने को मसल कर मजा ले रहा था.

उसका पूरा जिस्म हिल रहा था और वो ज़ोर से ‘आऽह्ह्ह आऽऽह्ह …’ करती हुई फिर एक बार झड़ गई.

उसके झड़ते ही मैंने अपना लंड पूरी ताक़त से उसकी झड़ती हुई बुर में डाल दिया और उसकी कमर को पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. इस वजह से उसकी आवाज़ ही निकलनी बंद हो गई और वो अपना सिर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी. उसका पूरा जिस्म कांप रहा था और वो मेरे लंड के झटकों को झेलने की कोशिश कर रही थी.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *