गाइड को पटाकर चोदा

मैने अब कपडों के ऊपर से ही उसके बदन को सहलाना शुरू कर दिया। उसके स्तनों पर हाथ जाते ही मुझमे कोई करंट सा दौड जाता, और मै बेकाबू होकर उसके स्तनों को मसल देता। वो भी यह सब एंजॉय कर रही थी, उसे भी मजा आ रहा था।
थोडी देर ऐसे ही ऊपर से उसके शरीर को रगडने के बाद मैने उसके टॉप के अंदर अपना हाथ घुसा दिया, और उसके दूधों का रस निचोडने लगा। थोडी देर बाद, उसने कहा, “टॉप टाइट है, फट जाएगा। तो या तो हाथ बाहर निकाल लो, या फिर टॉप ही निकाल दो।”
मुझे और क्या चाहिए था, मैने उसके टॉप को ऊपर करके उसके शरीर से अलग कर दिया। अब वो सिर्फ ब्रा में मेरे सामने थी। नीचे उसने एक जीन्स पहन रखी थी, तो उसका टॉप खोलने के बाद मै उसकी जीन्स का बटन भी खोलने लगा। वुसने भी उसके कपडे निकालने में मेरी सहायता की।
उसकी जीन्स निकालने के बाद मैने उससे अलग होते हुए अपनी पैंट भी उतार दी, और वो मेरे शर्ट के बटन खोलने लगी। थोडी ही देर में हम दोनों बस अपने अंर्तवस्त्रों में एक-दूसरे के सामने थे। तो मैने नीचे जमीन पर हमारे उतारे हुए कपडे एक पत्थर पर बिछाए और उसे उस कपडों पर लिटा दिया। मै उसके ऊपर आते हुए उसके दूधों को अपने मुंह मे भरकर चूसने लगा। उसके दूध बहुत ही मुलायम थे, ऐसा लग रहा था जैसे मलाई हो।

थोडी देर उसके दूध चूसने के बाद मैने उसकी ब्रा और पैंटी दोनों निकाल दी। और अब मै उसकी चुत को चूमकर उसमे अपनी एक उंगली घुसा दी। नताशा पहले से ही चुदी हुई थी, तो उंगली आराम से चुत के अंदर घुस गई। फिर मैंने अपनी चड्डी भी निकाल दी, और उसके चुत पर अपना लौडा रखकर उसे अंदर घुसाने लगा। तो उसने नीचे से एक हल्का सा धक्का लगाया, और मेरा आधा लंड उसकी चुत के अंदर चला गया।
नताशा काफी देर तक मुझसे चुदवाती रही, और मेरे हर धक्के के साथ वो अपने मुंह से कामुक आवाजें निकालती रहती थी। अब खुले आसमान के नीचे चुदाई करने का मेरा यह पहला मौका था। नताशा को नीचे पत्थर थोडा चुभ रहा था, तो वो मेरे ऊपर चढकर खुद ही धक्के लगाते हुए मुझे चोदने लगी।

लगभग आधे घंटे तक चोदने के बाद हम दोनों का पानी निकलने को था, नताशा ने मुझसे चुत के अंदर ही पानी निकालने को कहा। तो मैने अपने धक्कों की गती बढा दी, और उसे घपाघप चोदने लगा। फिर दोनों का वीर्य निकलकर हम दोनों ही ठंडे पड गए। जब तक हम टूर से वापस नही आए तब तक रोज हम दोनों चुदाई का खेल खेलकर अपनी हवस की प्यास मिटाते रहे।
आपको मेरी कहानी कैसी लगी, हमे कमेंट करके जरूर बताइए। धन्यवाद।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *