जीजू और उसकी सालियाँ

desi sex stories उसके मम्मों को दबाते दबाते पीठ पर हाथ फेरते फेरते मैं नीचे आया, धीरे से उसकी सलवार का नाड़ा खींच दिया।

“हाय ! यह क्या किया? वापस बाँध दो, वरना आपके हाथ छोड़ते ही यह नीचे गिर जायेगी।”

loading…

“कौन है यहाँ तीसरा? मैं ही तो हूँ तेरा साईं दीवाना ! पूरी जिंदगी ऐश करवाऊँगा तुझे रूपा !”

“साब, अगर कोई ऊँच-नीच हो गई तो ऐसी ऐश का क्या होगा? पहले ही गरीब को बेटी हूँ !”

“साली, अगर तेरा यार तुझे ठोकता, जिससे बात हो रही थी, क्या उसके पास इतना पैसा है जो तेरा पेट साफ़ करवा दे?”

“आपने मैडम की दोनों बहनों को भी नहीं छोड़ा?”

“वो अब बासी हैं, तू कचनार कलि है ! रूपा अगर ज़रुरत पड़ी तो मैं तुझे सबके सामने अपनाऊँगा !”

मेरा हाथ उसकी चिकनी जांघों में चलने लगा, वो भी गर्म होने लगी, मैंने जो गोली दी थी उसका असर था कि उसका जिस्म कसने लगा था।

मैं जानता था तो बस हाथ फेरता रहा।

वो बेकाबू हुई, लो हुई !

उसकी पीठ से जिप खोल दी। उसका गोरा बदन, गोरी पीठ देख मेरा पप्पू पागल हो गया था। उसके हाथ आटे वाले थे।

मैंने उसकी पीठ पर अपने होंठ रगड़े, वो सिसकारने लगी। मैंने वहीं उसकी कमीज़ उतरवा डाली रसोई में !

कची कलि टू पीस में थी अब !

मैंने गौर से देखा उसकी भरती जा रही छाती, उसकी गोल गोल उभरती जा रही गाण्ड को !

उसने हाथ धोये और अपने कपड़ों की तरफ बढ़ने लगी।

कपड़े मैंने उठा लिए तो बोली- साब दे दो और मुझे छोड़ो !

“साली, बहुत प्यार करने लगा हूँ तुझे !”

उसको मैंने समझाया और वहीं शेल्फ पर लिटा कर उसके मम्मों को दबाया, प्यार से देखा, क्या मम्मा था- कुंवारी कन्या का मम्मा था उसका निप्पल मानो चने का दाना हो !

मैंने उसको जीब से रगडा तो वो मचलने लगी, तड़पने लगी, फिर भी कह रही थी- साब, जाने भी दो ! मत करो मुझे बर्बाद ! मैं अपने आशिक से बहुत प्यार करती हूँ, उससे मैंने

शादी करने की कस्में खाई हैं !”

“बहन की लौड़ी, तो फिर आसान है, मैं उसको नौकरी दे दूँगा, तू भी यहीं काम करेगी, दोनों मस्त जिंदगी बिताना !”

मैंने फिर से दूसरे मम्मे को चूसा, निप्पल को चुटकी में लेकर मसला।

मैंने नीचे उसकी पैंटी के ऊपर से साथ साथ चूत रगड़नी ज़ारी रखी ताकि वो गर्म होती जाए।

वहीं घुटनों के बल बैठ गया मेरे होंठ उसकी चूत के सामने थे, मैंने उसकी पैंटी को एक तरफ़ खिसकाया और उसकी चूत देख पागल हो गया मैं।

हल्के-हल्के रोम थे उस पर भूरे से !

मैंने उसकी चूत को सूंघा और जीभ निकाल कर उस पर फेरी। अब वो बेबस हो रही थी, गोली का असर और अगर लड़की की चूत चाट लो वो मचलने लगती है, मैं वैसा ही कर रहा था।

मैंने अपना लौड़ा भी निकाल लिया, खड़ा होकर उसको हिला कर दिखाया ताकि वो मर्द का अंग भी देख ले पास से।

फिर खड़ा हुआ उसकी चूत पर सुपारा रगड़ा तो मानो उसकी चूत में आग लग गई हो !

मैंने दुबारा बैठ कर जीभ को अन्दर डाला और घुमाया तो उसकी चूत कुंवारी लग रही थी।

वो अनाप-शनाप बकने लगी- हाय साब जी ! मर जाऊँगी ! अह अह ! कुछ होता है ! मेरी चूत में आग लग रही है ! हाय मेरी फाड़ डालो !

“हाँ हाँ लाडो ! फाड़ने के लिए तो यह सब कर रहा हूँ ! और मुझे कौन सी इसकी पूजा करनी है?”

मौका सम्भालते हुए मैंने भी उसको बाँहों में उठाया अपने आलिशान बेडरूम में ले गया, बिस्तर पर पटका। नर्म नर्म बिस्तर जिस पर सोने के बारे में कभी सोचा भी नहीं होगा उसने !

“साली, तेरा आशिक तुझे ऐसा कमरा देगा? मैं तुम दोनों के लिए जो सर्वेंट क्वाटर तैयार करवाऊँगा, तू सोच भी नहीं सकती !’

मैंने खुद को पूरा नंगा कर दिया उसको भी अपना लौड़ा उसके होंठों पर रगड़ा- मुँह खोल ले मेरी जान रूपा !

रूपा ने मुँह खोल लिया तो मैंने उसमें लौड़ा घुसा दिया- चूस मेरी जान !

वो पागलों की तरह मेरा लौड़ा चाटने लगी, चूसने लगी।

“और चूस ले मेरी रूपा, क्या कहती है मलाई खिलवाऊँ क्या?”

वो चुप रही लेकिन मैंने कहा- चल एक साथ मजे लेते हैं !

मैं उसकी चूत चूसने लगा, वो मेरा लौड़ा !

एक और कच्ची कलि को हलाल करने को मेरा लौड़ा तैयार था, पिंकी की ली थी, इसलिए मेरा लौड़ा इतनी जल्दी झड़ने वाला नहीं था।

रूपा नंगी पड़ी थी, मेरा सपना सच हो रहा था।

मैंने कहा- लौड़ा और चूस !

बोली- साब, मेरा मुँह दुखने लगा है ! कभी नहीं चूसा इसलिए !

“चल कोई बात नहीं ! चाट तो सकती है !”

वो जीभ निकाल-निकाल कर मेरा लौड़ा चाटने लगी।

मैंने उसकी टांगें उठवा दी और बीच में बैठ कर उस पर अपना लौड़ा रगड़ने लगा।

वो मरी जा रही थी- साब, बहुत तड़पा रहे हो, जो करना है, करो ना !

मैंने सुपारा सही जगह रख उसको झटका दिया। वो दर्द से कराहने लगी।

मैं रुक गया, गीला करके डाला लेकिन उसको दर्द हो रहा था, मैंने कहा- थोड़ा चूस कर गीला कर दे !

तभी बाज़ार से फ़ोन आ गया- हम फ्री हो गए हैं, आपकी इन्तज़ार कर रहे हैं !

मैंने कहा- मैं काम में फंस गया हूँ, बस थोड़ी देर लगेगी।

मैंने रूपा के मुँह में झटके देते हुए बात की।

मैंने रूपा की टांगें फैलाई और जोर से झटका दिया।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *