जीजू से खेत में खूब चुदी, चूत लाल हो गयी चुद चुद के

जब अपनी बहन सुमन की शादी अटेंड करने गई और वहां मैंने अपने जीजू को सुमन को चोदते हुए देख लिया और मैं तभी उनके मोटे लंड की दीवानी हो गई, और उनको टोंट मारते हुए उनके साथ एक शर्त भी लगा दी, फिर जब जीजू मेरे घर जयपुर में रहने आए तो मैं उनसे वहां अपने पति की गैर हाजरी में चुद गई और बहुत बुरी तरह चुदी जिससे मेरी चीख निकल गई और मैं शर्त हार कर भी जीत गई थी. दोस्तों, जीजू मेरी जिंदगी के दूसरे इंसान थे जिन्होंने मुझे चोदा था, और मुझे चोद चोद कर मेरी चीखें निकाल दी थी. मेरी जिंदगी में मुझे सबसे पहले मेरे पति ने चोदा और फिर मैंने अपने जीजू की बाहों में पड़ी. पर हां जीजू ने मेरी चूत चोद कर फाड़ दी थी, और अब तो जीजू का आना जाना भी बहुत हुआ करता था. इसलिए मुझे तो बस अपने जीजू के लंड लेने का हर बार इंतजार रहा करता था.

जीजू और मेरे पति की भी बहुत अच्छी बनने लगी थी इसलिए मैं भी बहुत खुश थी और जब भी जीजू मेरे घर रहने आते तो वह मुझे चोदे बिना कभी नहीं जाते थे. जीजू जब भी मुझे चोदते थे तो मेरी गांड पर हाथ फेर फेर कर ऐसे दबाते कि मैं आपको क्या बताऊं? और यह कहते की क्या लाजवाब गांड है, मैं उनकी बात सुनकर हंस पड़ती. तो वह भी मुस्कुराते हुए बोलते, अब तो गांड मरवाने के लिए तैयार हो जा. मैं उनकी यह बात सुनकर डर गई, क्योंकि जीजू ने एक बार मेरी गांड में उंगली डाली थी, तो तब मेरी चीखें निकल गई थी. और अब तो मैं इस बात को सोच सोच कर डर रही थी. कि इतना मोटा लंड मेरी गांड में कैसे जाएगा? और चला भी गया तो मेरा क्या हाल होगा? मैं तो मर ही जाऊंगी.

कुछ महीने तक जीजू घर भी नहीं आए और उनका जयपुर में कोई काम भी नहीं पड़ा इसलिए मैंने भी इतना ध्यान नहीं दिया और मेरी चूत उनके लंड को लेने के लिए तड़प रही थी. कुछ दिन बाद पता चला कि जीजू की बहन यानि मेरी बहन सुमन की ननंद की शादी है और उसके लिए हमने भी बुलाया गया है. जिस दिन मुझे यह खबर मिली की शादी आ रही है तो मुझे लगा कि अब तो जीजू ही कार्ड देने आएंगे और अगर तब चाहा तो मैं एक बार फिर उनसे चुद जाऊंगी, पर ऐसा हो नहीं पाया. क्योंकि जिस दिन जीजू घर पर शादी का कार्ड देने आए, उस दिन मेरे पति भी घर पर थे, इसलिए मेरे सपनों पर पानी फिर गया.

अब जीजू और मेरे पति बातें मारने लगे और मैं उनके लिए कॉफ़ी और कुछ स्नैक्स लेकर आई और उन्हें सर्व कर दी. फिर कुछ देर बाद जब वह जाने लगे तो मुझे शादी का कार्ड पकड़ाते हुए बोले शादी में जरूर आना और अपनी गांड पर तेल लगा कर आना. मैं जब उनकी यह बात सुनी तो मैंने यह बात हंसी में टाल दी और फिर जीजू भी वापस चले गए.

उनके जाने के बाद मैं तो बस यही सोचती रही कि कहीं वह सच में तो वहां मेरे साथ कुछ करेंगे? और अगर उन्होंने वहां मेरी गांड मार दी तो मेरा क्या हाल होगा? पर जो भी है. मुझे तो मजे ही आने थे इसलिए मैंने इतना ज्यादा ध्यान नहीं दिया और शादी के दिन का इंतजार करने लगी. फिर जब शादी का दिन आया तो तैयार होने लग गई और तैयार होते वक्त मुझे जीजू की बात याद आ गई कि मुझे अपनी गांड पर तेल लगाना है, इसलिए मैंने तेल लिया और अपनी गांड में उंगली डालकर अंदर तक तेल डाल दिया और तैयार होने लगी. अब मैं और पति घर से तैयार होकर जीजू के घर जाने के लिए निकल लिए.

मैं तो बस वहां पहुंचने का इंतजार करती हुई मुस्कुराने लगी, तो मेरे पति ने पूछा शालू क्या हुआ? मैंने उनकी यह बात सुनकर अपनी बात ही टाल दी और कोई जोक याद आ गया था यह बहाना लगा कर बात को टाल दिया. अब तो मैं रास्ते की दूरी खत्म होते दिख रही थी और अपनी मंजिल तक पहुंचने का इंतजार कर रही थी, फिर कुछ ही मिनटों बाद हम जीजू के घर पहुंच गए. और मैंने देखा कि जीजू तो पहले से ही बाहर खड़े जैसे मेरा इंतजार कर रहे हो.

अब मैं और मेरे पति उनके पास पहुंचे, तो उन्होंने मुझे देखकर आंख मार दी. तो मैंने भी आंख मारने का जवाब आंख मार कर दिया और मिलकर अंदर चले गए. सभी रिश्तेदारों से मिलने के बाद अब जीजू ने मेरे पति को अपने दोस्त के साथ किसी दूसरे शहर में सामान लेने भेज दिया, और मेरे पास आकर बोले चल मेरे साथ.

मैंने कहा जीजू सब क्या कहेंगे? ऐसे जाना ठीक नहीं है.

पर जीजू तो मुझे पीछे के दरवाजे पर आने का कह कर वहां से चले गए और मैं वहां बैठी उनकि इस बात को सोचती रही और कुछ देर तक ऐसे ही सोचने के बाद खुद को ना कंट्रोल करते हुए दरवाजे पर चली गई. मैं जब पीछे के दरवाजे पर पहुंची तो मैंने देखा कि सामने एक कार खड़ी है, जिसमें जीजू बैठे हैं. इसलिए मैं उसी कार की फ्रंट सीट पर जाकर बैठ गई. मेरे बैठते जीजू ने कार स्टार्ट की और वहां से निकलते हुए कार को रोड में ले आकर भगाने लगे.

अब मैं उनके साथ कार की फ्रंट सीट पर बैठी तो जीजू ने मेरे बूब्स पर हाथ फेरते हुए उसे दबाना शुरु कर दिया, पर मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि हम जा कहां रहे थे? इसलिए मैंने जीजू से पूछ लिया.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *