कामवाली को विदेश से आने के बाद पैसे देकर चोदा

जब हम लोग मेरी बहन के घर पहुंचे तो वह मुझसे मिलकर बहुत खुश हुई और कहने लगी तुम्हें इतने साल बाद देख कर कितना अच्छा लग रहा है, मैंने उसे कहा कि मैं भी तो तुम्हें इतने सालों बाद देख रहा हूं, मैं बहुत ही खुश था, वह भी बहुत खुश हो रही थी। जब मैं उसके बच्चों से मिला तो वह बहुत बड़े हो चुके थे और वह मुझे कहने लगे कि मामा आप हमारे लिए क्या लेकर आए हैं, मैंने उनके लिए भी कुछ गिफ्ट लिए हुए थे और मेरे पास कुछ चॉकलेट भी थी, मैंने वह उन बच्चों को दे दी और वह बहुत खुश हो गए। उसके बाद कुछ देर मैं उनके साथ ही खेलता रहा। अब मेरी बहन मुझसे पूछने लगी कि तुम्हारा आगे का क्या विचार है, मैंने उसे बताया कि मैं विदेश में ही काम करने वाला हूं और मैं वहीं पर रहने वाला हूं क्योंकि वहां पर मुझे अच्छे पैसे मिल जाएंगे इसलिए मैं वही काम करूंगा। वह कहने लगी यह तो अच्छी बात है की तुम वहीं काम करोगे। मेरे पिताजी भी कहने लगे कि यह सुरेश के लिए अच्छा होगा कि वह विदेश में नौकरी करें। अब हम लोगों ने मिलकर मेरी बहन का बर्थडे बनाया। मेरे जीजा भी घर पर थे और हम सब लोग काफी एंजॉय कर रहे थे। हम लोग मेरी बहन के घर पर दो दिन तक रुके, उसके बाद हम लोग वापस अपने घर आ गए। उस दिन बहुत रात हो गई थी इसलिए हम सब लोग जल्दी सो गए सुबह में देरी से उठा तो मेरे पिताजी खेतों में जा चुकी थे मेरी मां भी काम से कहीं गई हुई थी।

राधा मेरे कमरे में आई वह सफाई करने लगी जब वह सफाई कर रही थी तो उसके स्तन मुझे दिखाई दे रहे थे। मैं बड़े घूर घूर कर उसके स्तनों को देख रहा था वह मुझसे कहने लगी कि तुम इस प्रकार से मेरे स्तनों को क्यों देख रहे हो। मैंने उसे अपने पास बुलाया और कहां की तुम मेरी इच्छा पूरी कर दो तो मैं तुम्हें उसके बदले कुछ पैसे दे दूंगा। वह यह बात सुनकर बहुत खुश हुई उसने मेरे लंड को हिलाना शुरू कर दिया और हिलाते हुए अपने मुंह में समा लिया। उसने काफी देर तक मेरे लंड को चूसा जिससे कि मेरे पानी बाहर की तरफ निकले लगा और मेरी उत्तेजना बढ़ने लगी वह भी उत्तेजित हो गई। मैंने उसे अपने बिस्तर पर लेटाते हुए उसके होठों का रसपान किया। मैंने उसके होठों को बहुत अच्छे से चूसा जिससे कि उसके होठों से खून भी निकलने लगा था और मुझे बहुत अच्छा लगने लगा जब उसके होठों से खून निकल रहा था। मैंने उसे नंगा कर दिया जब मैने उसके स्तनों को देखा तो वह बड़े ही मुलायम और नर्म थे। मैंने जैसे ही उन्हें अपने हाथों से दबाया तो मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था और राधा भी बहुत खुश हो रही थी। मैंने उसके स्तनों को अपने मुंह में लेते हुए चूसना शुरू कर दिया और काफी देर तक उसके स्तनों का रसपान किया। मैंने उसकी योनि को भी चाटा उसकी योनि से पानी निकल रहा था वह मैंने सब बहुत अच्छे से चाटा। मैंने जब उसके दोनों पैरों को चौड़ा किया तो उसकी योनि में एक भी बाल नहीं था और मैंने जैसे ही अपने लंड को उसकी योनि में डाला तो वह पूरे मूड में आ गई। मैं उसे बड़ी तेजी से धक्के देने लगा लेकिन जब मेरा लंड अंदर बाहर हो रहा था तो वह अपने मुंह से मादक आवाज निकाल रही थी। वह मुझे कहने लगी की आपने तो मेरी सील तोड़ दी है मैंने जब अपने बिस्तर पर देखा तो उस पर पूरा खून लगा हुआ था। मैं अब पूरे मजे ले रहा था और वह भी पूरे मूड में थी आधे घंटे तक मैंने उसे अच्छे से चोदा और उसके बाद मेरा वीर्य उसकी योनि में जा गिरा।