लोहड़ी की रात मेरी पहली सुहागरात

नमस्कार दोस्तो, मैं अनूप ठाकुर अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। ऐसा शायद ही कोई दिन बीतता होगा जिस दिन मैं अन्तर्वासना पर दो चार कहानियां नहीं पढ़ता।
2009 से लेकर आजतक मैंने कभी भी अन्तर्वासना की कोई रचना नहीं छोड़ी होगी। कुछ कहानियां काल्पनिक लगती हैं और कुछ सच्ची भी लगती हैं। लेकिन पूरा सार यह निकलता है कि हर एक कहानी ऐसी होती है कि सेक्स की आग भड़का ही देती है।

मैं भी आज आप सबके सामने अपनी ऐसी ही कई आपबीती में से एक लेकर आया हूँ। उम्मीद है आपको मेरी ये सच्ची कहानी अच्छी लगेगी। इस कहानी के सभी पात्र एवं घटनाएं सच्ची हैं। बस गोपनीयता बनाए रखने के लिए लड़की का नाम और सटीक पता बदल दिया गया है।
और हाँ इस कहानी में कोई अतिरिक्त मसाला इस्तेमाल नहीं किया गया है, जो सच है बस वो ही लिखा है और आप लोगों के सामने पेश किया है।

तो अब मैं सीधे अपनी कहानी पे आता हूँ। मैं चंडीगढ़ में रहता हूँ और पढ़ाई मैंने सेक्टर 22 से की है.
बात आज से 10 साल पहले की है जब मैं 12वीं में पढ़ता था। मेरे घर के पास ही में 2 घर छोड़ के मेरे से एक साल छोटी मेरी जूनियर रहती थी जिसका नाम नैना था। पहले मेरी उसमें कोई रूचि नहीं थी, मेरा ध्यान सिर्फ फुटबॉल खेलने में रहता था. मैं अपने स्कूल के सबसे अच्छे खिलाड़ियों में आता था इसलिए मुझे सिर्फ अपने खेलने से और पढ़ाई से ही काम होता था।

लेकिन वो कहते हैं ना कि किस्मत के आगे किसी का बस नहीं चलता।

घर पर हम सब क्रिकेट या फिर पिट्ठू खेलते थे। नैना हमारे पड़ोस में काफी टाइम से रहती थी लेकिन आजतक कभी उसकी तरफ ऐसा ध्यान नहीं गया था। लेकिन 12वीं के बाद से ही मेरी उसकी तरफ रूचि बढ़ गयी।
हमारे पड़ोस में एक भाभी के लड़का हुआ, कुछ महीने बाद वो थोड़ा बड़ा हुआ तो मैं उसके साथ खेल रहा था। तभी नैना मेरे पास आई और उसने मुझसे उस बच्चे को माँगा। मैंने भी दे दिया.
उसने जैसे ही उसको गोद में उठाया, उसने उस पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी।

और मेरे मुंह से एकदम से निकल गया कि काश मेरी भी ऐसी किस्मत होती और तुम मुझे भी ऐसे ही किस करती।
उसने कुछ नहीं कहा, बस हंस दी।
फिर मैं वहाँ से चला गया।

फिर बहुत दिनों तक बस मैं सोचता रहा कि क्या किया जाए।
और एक दिन मैंने मौका देखकर उसको प्रोपोज़ मार दिया कि वो मुझे पसंद है और मैं उससे प्यार करता हूँ।
उसने कुछ नहीं कहा.
फिर मैंने कहा- अगर तुमको ना करनी है तो कोई कारण भी बता देना ना करने का, अभी तुम एक दो दिन का समय ले लो।
उसने कहा- ठीक है, मैं तुमको सोच के दो दिन बाद जवाब दूंगी।

वो दो दिन किस तरह गुज़रे, मैं ही जानता हूँ।
फिर दूसरे दिन की शाम को उसने कहा- कल मैं ट्यूशन से बंक मारूंगी सुबह, तुम भी मार लेना।
मैंने कहा- ठीक है!
उसकी ट्यूशन सुबह 6 बजे होती थी और मेरी पांच बजे।

मैंने घर पे बोल दिया कि कल मेरी ट्यूशन का टाइम छह बजे का है।

फिर मैं और वो सुबह घर से दूर सड़क पर मिले और साथ में घूमें अभी कुछ दूर ही गए कि बारिश लग गई। फिर हम दोनों जल्दी से सेक्टर 17 बस स्टैंड पहुंचे और वहाँ हमने आराम से बैठकर कुछ देर तक बातें करी.

फिर मैं उसको लेकर थोड़ा साइड में आ गया और उससे पूछा- क्या सोचा तुमने?
तो उसने बिना कुछ कहे मेरे गाल पर एक किस दे दिया और कहा- आई लव यू टू।
यह सुनकर मेरी ख़ुशी का ठिकाना न रहा और मैंने वहीं उसके होंठों पे किस कर दिया। उसने भी मेरा भरपूर साथ दिया और हमने एक दूसरे को दो तीन मिनट तक स्मूच किया। फिर हम ऐसे ही घर से बोल कर निकल जाते कि ट्यूशन जा रहे हैं पर घूमते रहते, एक दूसरे को चूमते और यहाँ वहाँ हाथ लगाते।

फिर मुझे मेरे घर वालों ने मोबाइल ले दिया। कहने को तो वो पापा का मोबाइल था लेकिन उसको मैं ही चलाता था। फिर वो भी रात को अपने पापा का मोबाइल ले लेती और हम दोनों रात को दस से लेकर सुबह पांच छह बजे तक ढेर सारी बातें करते।

ऐसे ही किसी तरह बातें सेक्स की ओर चल पड़ी। मैं सच कहूँ तो मैंने आजतक कभी मुठ नहीं मारी थी लेकिन ब्लू फिल्म्स देख देख के ये ज़रूर सीख लिया था कि लड़की को कैसे गर्म करते हैं और कैसे चोदते हैं।
बस फिर हमारी सेक्सी बातें हमें पागल करने लगी और एक दिन हमने अकेले मिलने का प्लान करा।

वो लोहड़ी का दिन था 13 जनवरी… मैं अपने स्कूल के दोस्तों के साथ लोहड़ी मांगने गया हुआ था। आने में थोड़ी देर हो गई जिस वजह से नैना मुझसे नाराज़ हो गई। सब लोग घर के पास वाले पार्क में लोहड़ी मना रहे थे। पार्क के बाहर मैं नैना को मनाने की कोशिश कर रहा था पर वो मान ही नहीं रही थी।

मैंने कहा- सॉरी जानू, प्लीज माफ़ कर दो! देखो ना आज घर पर कोई नहीं है तो मजे करने का पूरा मौका है।
वो बोली- इसीलिए तो मैं नाराज़ हूँ कि तुम इतनी लेट आए।

मैं उसकी यह बात सुन कर खुश हो गया और उसको पार्क के बाहर खड़े एक टैम्पो ट्रैक्स के ट्राले में ले जाकर खूब स्मूच किया। फिर धीरे धीरे वो भी साथ देने लगी। मैंने उसके टॉप के ऊपर से ही उसके चूचे दबाने शुरू कर दिए, उसकी साँसें तेज़ होने लगी और जब मैंने उसकी गर्दन और चूचों पर किस करना शुरू किया तो वो आहें भरने लगी।

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *