मामा की नशेड़ी लड़की को चोदा

मैंने उस दिन उसे बहुत समझाया लेकिन उसके बावजूद भी वह अपने पिताजी और अपनी मां से बात करने को तैयार नहीं थी। मेरे मामा ने उसे पहले ही बता दिया था कि वह लड़का अच्छा नहीं है इसीलिए वह उनसे रचना का रिश्ता नहीं करवाना चाहते थे लेकिन रचना ही उस वक्त उसके प्यार में अंधी थी इसीलिए वह इन चीजों को बिल्कुल नहीं समझ पा रही थी। जब रचना और मेरी बात हो रही थी तो मुझे लगा कि शायद वह मेरी बात मान जाएगी लेकिन वह मेरी बात बिलकुल भी नहीं मानी और उस दिन वह तैयार होकर घर से चली गई। मैंने जब उसे फोन किया तो वह किसी पार्क में बैठी हुई थी और मैं भी वहां पर चला गया। वह बहुत ही नशे में थी और उसने बहुत ज्यादा शराब पी ली थी उसके बाद उसे बिल्कुल भी होश नहीं था। मैंने उसे कहा कि हम लोग घर चलते हैं लेकिन वह घर आने को तैयार नहीं थी। वह और भी ज्यादा शराब पी रही थी। जब मैंने उसे घर चलने की जिद की तो उसके बाद मैं उसे घर ले आया। वह अच्छे से चल भी नहीं पा रही थी। मैं उसे पकड़ पकड़ कर घर लेकर आ रहा था और जब मैं घर पहुंचा तो उसके बाद मैंने उसे उसके बिस्तर पर लेटा दिया। मैं उसके बगल में ही बैठा हुआ था और मैं उसे देखे जा रहा था। मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि रचना इतनी ज्यादा बदल जाएगी। मैं रचना के बगल में खड़ा होकर उसे देख रहा था वह लेटी हुई थी। वह लेटी हुई थी तो वह अपनी योनि में उंगली डालने लगी मैं उसके पास में खड़ा हो कर देख रहा था। मैंने उसके हाथ को उसकी योनि से बाहर निकालने की कोशिश की लेकिन वह अपनी उंगली को अपनी चूत मे डाल रही थी। मैं यह सब देखे जा रहा था मैंने जब उसकी जींस को खोला तो उसकी मुलायम चूत को देख कर मेरा मन खराब हो गया और उसकी योनि से पानी बाहर निकलने लगा था। उसकी योनि पूरी गीली हो गई और मैंने जैसे ही उसकी योनि पर अपनी जीभ को लगाया तो वह पूरे मूड में आ गई। वह पूरे मूड में थी और उसकी योनि से बहुत ज्यादा पानी बाहर की तरह निकल रहा था। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब उसकी योनि से पानी बाहर की तरफ निकल रहा था मैंने भी उसकी योनि को बड़े अच्छे से चाटा वह पूरी मचलने लगी थी। मैंने जब उसे पूरा नंगा कर दिया तो उसके स्तन देख कर मेरा भी मूड खराब हो गया मैं उसके स्तनों को अपने मुंह में लेने लगा। मैं बहुत ही अच्छे से उसके स्तनों का रसपान कर रहा था और मुझे बड़ा आनंद आ रहा था।

जब मैं उसके स्तनों को अपने मुंह में लेकर चूस रहा था तो वह भी उठ चुकी थी वह नशे की हालत में थी लेकिन उसे काफी मजा आने लगा। मैंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए रचना के मुंह में डाल दिया। उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया वह बहुत अच्छे से मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूस रही थी और मुझे बड़ा मजा आ रहा था जब वह मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर सकिंग कर रही थी। उसने काफी देर तक ऐसा किया मैंने भी उसके दोनों पैरों को चौड़ा किया और जैसे ही मैंने उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाला तो वह चिल्लाने लगी और उसकी योनि से खून भी निकलने लगा। मैंने उसे बड़ी तेजी से झटके मारे वह पूरे मूड में आ चुकी थी। रचना को बड़ा मजा आ रहा था वह मुझे कह रही थी जब तुम मुझे चोद रहे हो। वह अपने मुंह से सिसकियां ले रही थी और मेरा पूरा साथ दे रही थी। मैंने काफी समय तक उसे ऐसे ही चोदा उसके बाद मैंने उसे अपने ऊपर लेटा दिया। जब वह मेरे ऊपर आई तो मैंने जैसे ही उसकी चूत मे अपने लंड को डाला तो वह चिल्लाने लगी और मैं उसे बड़ी तेज झटके मार रहा था। जब उसकी चूत से कुछ ज्यादा ही पानी बाहर निकलने लगा तो वह अपनी चूतडो को हिलाने पर लगी हुई थी मुझे बड़ा मजा आ रहा था। मैं उसे बड़ी तेज तेज धक्के मार रहा था और वह अपने मुंह से आवाज निकाल रही थी। कुछ देर तक मैंने ऐसे ही उसे चोदा उसके बाद मैंने उसे अपने नीचे लेटा दिया और बड़ी तेज तेज में उसे धक्के देने लगा। उसके स्तन भी बड़ी तेजी से हिल रहे थे और मैं उनको अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। काफी समय तक मैंने ऐसा किया लेकिन जब रचना झड गई तो उसके बाद उसने अपने दोनों पैरों से मुझे जकड लिया और मैंने उसे बड़ी तेज धक्के मारे। कुछ समय बाद ही मेरा वीर्य पतन हो गया।