मौसेरी बहन की बुर चुदाई

नमस्कार दोस्तो, यह कहानी मेरी मौसी की बेटी की कुंवारी बुर चुदाई की है.

मैं राज पाठक आपको अपना परिचय दे देता हूँ. मैं एक 28 साल का 5 फीट 6 इंच हाइट का हट्टा कट्टा नौजवान हूँ. मेरे लंड की साइज़ 5 इंच है और मैं किसी भी लड़की को खुश करने में कभी भी कोई कसर नहीं छोड़ता हूँ.

अब सीधा अपनी सेक्स कहानी पर आता हूँ. बात तब की है, जब मुझे बड़ौदा में नई जॉब मिली थी, तो मैं वहां शिफ्ट हुआ था. अब नया शहर था और लोग भी नए थे. मैंने वहां एक मकान किराए पर लिया और जॉब करने लगा. बड़ौदा से सूरत कुछ ही घंटों का सफ़र है तो मैं आए दिन अपनी मौसी के घर जाया करता था.

मेरी मौसी की दो बेटियाँ हैं, बड़ी लड़की का नाम सीमा है, सीमा की बहन उससे उम्र में छोटी थी. सीमा की उम्र उस वक़्त 19 के आस पास रही होगी. मगर उसका फिगर क्या कहूँ, एकदम दहकता हुआ अंगार था. इस उम्र में फिगर का ऐसा होना लाजिमी भी है. मैंने अपनी आँखों से ही उसका फिगर नाप लिया था, लगभग 34-28-36 का रहा होगा.

मैं उनके घर जाता तो मेरी मौसी की बेटी और उसकी बहन मुझसे बहुत लिपट कर बहुत ख़ुशी जाहिर करती थीं. छोटी बहन से लिपटने में मुझे कोई भी अहसास नहीं होता था, पर जब सीमा मुझसे लिपटती थी, तो मेरे अन्दर करंट दौड़ जाता था.

मैं उसको पहले कभी इस नजर से नहीं देखता था, पर जब उसको पहली बार टाइट सलवार कुरता में देखा, तो उसका फिगर मेरे मन को अन्दर तक झंझोड़ गया. इस नजर से मैंने उसको पहली बार देखा था तो मैं रह नहीं पाया और उसी समय से उसको चोदने का प्लान बनाने लगा.

वो कहते हैं न अगर किसी चीज को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसको मिलाने के लिए जुट जाती है.

आखिर वो दिन नजदीक ही था. मैं जब एक सन्डे को वहां गया. पता चला कि मौसा और मौसी एक रिश्तेदार की मौत हो गई है, वहां गए थे. मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ. मैंने प्लान बनाया कि शुरुआत कहाँ से हो.

मेरी बहन अक्सर मेरा मोबाइल लेकर गैलरी खोलती और xxx वीडियो देखती थी. मैंने उस दिन सुबह ही अपने मोबाइल में ब्लू फिल्म लोड कर दी.
सीमा ने खाना बनाया और खाने के बाद हम सब टीवी देख रहे थे. उसने मेरा मोबाइल ले लिया. पहले तो उसने whatsapp वगैरह के वीडियो देखे और थोड़ी देर बाद उसने ब्लू फिल्म वाला फोल्डर खोल लिया. जैसे ही उसने वीडियो ओपन किया तो ‘ऊंह आह..’ की आवाज़ आने लगी. उसने झट से मोबाइल का साउंड बंद कर दिया, ताकि किसी को पता नहीं चले. टीवी के साउंड में उसकी बहन ने वो ‘ऊंह.. आंह..’ वाली आवाज़ नहीं सुनी थी. चूंकि मैं निगाह रखे हुए था तो मैं तुरंत जान गया कि चिड़िया फंदे में फंस गई.

उस दिन काफी देर तक उसने वीडियो देखे. फिर शाम होते मैंने बहन से पूछा- कैसे लगे वीडियो?
वो कुछ डर गई और बोली- कैसे वीडियो.. कहाँ के वीडियो?
मैंने उसको फिर थोड़ी स्माइल देकर पूछा- वो वाले.. जो तुम साउंड बंद करके देख रही थी?

उसकी हालत पतली हो गई कि मुझे कैसे पता चला. मेरी बहन डर गई और बोली- देखो मुझे माफ़ कर दो.. आज के बाद मैं कभी आपका मोबाइल नहीं लूँगी.. और आप भी मम्मी पापा को भी मत बताना.. प्लीज.. मुझे छोड़ दो.. आप जो बोलेंगे वो मैं करूँगी.

मैं समझ गया कि लोहा गरम है चोट मारने का सही टाइम है.
मैंने कहा- अच्छा जो मैं बोलूँगा, वो करोगी?
उसने मुस्कुरा कर कह दिया- हां कर दूंगी.

मैंने कहा- तो वो जो xxx फिल्म में करते हुए देखा था, वही मुझे तुम्हारे साथ करना है.
उसने कहा- लेकिन ये तो गलत है और आप मेरे भाई हो.. भाई के साथ सेक्स कैसे मुमकिन है?
मैंने कहा- मुमकिन तो सब है, पर तुम्हारी रजामंदी के बिना कुछ भी नहीं है.
थोड़ी न नुकुर के बाद वो बोली- ठीक है लेकिन सिर्फ ऊपर ऊपर वाला ही होगा.
मैंने कहा- ठीक है, रात को जब तुम्हारी बहन सो जाए, तो तुम अन्दर वाले कमरे में आ जाना.
वो हंस दी और मान गई.

रात को 10 बजे उसने बहन को सोते हुए देखा और पक्का करके कि वो सो गई है, मेरे पास आ गई.

मैं तो उसको देखते ही उस पर टूट पड़ा. उसके कमरे में आते ही मैंने अपनी बहन को चूमना चालू कर दिया और पागलों की तरह उसका चेहरा तो कभी उसका गला चूमने लगा. इससे उसको भी मजा आने लगा और वो भी मुझे चूमने लगी.

थोड़ी देर चूमा चाटी के बाद मैंने उसके टॉप में हाथ डाल कर बहन के चूचे दबाए, जिससे उसको और भी मजा आने लगा.

अब मेरी बहन की कामुकता भड़क उठी, वो बड़बड़ाने लगी- भाई, प्लीज चूसो मेरे मम्मों को.. मुझे मजा आ रहा है.. प्लीज चूस लो इनको.

मैंने समय बर्बाद न करते हुए अपनी बहन का टॉप उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को चूसने लगा. वो बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी. कभी इधर तो कभी उधर अपना सर मचलाने लगी.

वो मेरी गांड भींचते हुए मुझसे चिपक गई और बोलने लगी- आह.. प्लीज चूस लो इनको.. आज चूस चूस के सुजा दो इनको.. आह आह उह प्लीज.

वो बड़बड़ाए जा रही थी और मैं उसको जोर जोर से चूसे जा रहा था. इस दौरान कब मैंने उसकी ब्रा उतार दी, उसको भी पता नहीं चला.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *