मॉम की चुदाई नंगी देख कर

माँ ने कहा- देख तो दरवाजे पर कौन है?
मैं देखने गया. बाहर कोई पड़ोस से आया था. मैं उनसे बात करने लगा. जब तक वो गया, तब तक मॉम पूरी तैयार हो चुकी थीं.

मैंने उनको देखा, उन्होंने आज रेड साड़ी, ब्लाउज, पेटीकोट पहना था. होंठों पर लिपस्टिक, गले में मंगलसूत्र, हाथों में चूड़ियां. मैंने उनको देखा और सोचा कि अब तो मॉम को चोदने का मौका निकल गया.

फिर मैं टीवी देखने लगा.

दोपहर में करीब एक बजे खाना खाकर मैं सोफे पर बैठ कर ‘रागिनी एमएमस-2’ मूवी देख रहा था, जो डरावनी कम और सेक्सी ज्यादा थी.

तभी मॉम वहां आ गईं, तो मैंने चैनल बदल दिया. तभी मॉम ने मेरे हाथ से रिमोट लेकर वही मूवी लगा दी. हम दोनों मूवी देखने लगे. उसमें एक डरावना सीन आया, तो मॉम मेरे पास आ गईं और मुझसे लिपट गईं.

इससे मुझे भी थोड़ी हिम्मत आ गई और मैंने अपना हाथ मॉम की जांघों पर रख दिया. मॉम ने कुछ नहीं कहा, तो मैं धीरे-धीरे अपना हाथ सहलाने लगा.

फिर मैंने अपना हाथ मॉम के पेट पर रखा तो मॉम बोलीं- बेटा मुझे यहां से कुछ साफ से दिखाई नहीं दे रहा, सूरज की रोशनी आ रही है. … मैं खिड़की बन्द करके आती हूँ.
माँ खिड़की बन्द करने गईं, तो मैंने अपना अंडरवियर नीचे करके लोअर ऊपर कर लिया.

थोड़ी देर बाद मॉम आईं, तो उन्होंने मुझे पीछे होने को कहा और खुद मेरे पैरों के बीच में आकर बैठ गईं. अब रूम में अंधेरा था. थोड़ी देर बाद मैंने फिर से मॉम के पेट पर हाथ रखा और अपना लंड मॉम की गांड के पास सटा दिया.

मॉम ने अपना पल्लू नीचे किया हुआ था, तो मैंने मॉम के गले पर किस किया. मॉम ने अपना शरीर ढीला कर दिया. मैं समझ गया कि मॉम चुदने के लिए रेडी हैं. मैंने एक हाथ उनकी नाभि में घुसाया और दूसरे हाथ से उनके चेहरे को अपनी तरफ करके लिपलॉक किस करने लगा.

माँ भी मुझे साथ देने लगीं. कोई 5 मिनट किस करने के बाद मैंने अपना हाथ उनके मम्मों के ऊपर रखा और चुचियां दबाने लगा.
अब मॉम की सिसकारियां आना शुरू हो गई- आह आहहह हहह आराम से राजा.

मैंने उनका पल्लू नीचे किया और उनके ब्लाउज का बटन खोल दिया. मैंने नजर भरके उनके रसभरे मम्मों को देखा और मॉम को सोफे पर लेटा कर खुद उनके ऊपर चढ़ गया.

उन्होंने अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और उसे बाहर निकाल लिया. मैं उनकी चुचियों को मसल रहा था. मैंने उनके एक निप्पल को मुँह में लिया और दूसरे को दबाने लगा. इसके बाद मॉम की साड़ी भी निकाल दी.

करीब 10 मिनट तक चूचे दबाने के बाद मैंने उनके मुँह में अपना लंड देने का सोचा. मैंने अपना लोअर निकाला और लंड मॉम की चुचियों पर फिराने लगा. थोड़ी देर बाद मैं अपना लंड मॉम की मुँह के तरफ ले गया, तो मॉम ने उसे मुँह में लेने से इंकार कर दिया.

थोड़ी देर मनाने के बाद आख़िरकार मेरा लंड मुँह में लेने को मॉम तैयार हो गईं.

मैं नीचे उतरा और मॉम को सोफे पर बिठाकर उनके मुँह में अपना लंड घुसा दिया. मॉम मेरा लंड चाटने लगीं और मैं उनके बाल सहलाने लगा. उनके निप्पलों के साथ खेलने लगा. लंड जब मॉम के मुँह में अन्दर बाहर होता तो ‘घप … घप … घप.’ की आवाज़ आ रही थी.

कोई 5 मिनट बाद मैंने अपना माल मॉम के मुँह में छोड़ दिया. मॉम उसे बाहर थूकतीं, इसके पहले ही मैंने उनका मुँह बन्द कर दिया. मॉम को मजबूरी में मेरे लंड का रस पीना पड़ा.

थोड़ी देर बाद हमारा खेल फिर शुरू हुआ. अबकी बार मैंने मॉम का पेटीकोट भी निकाल दिया और उनका पैर फैला कर अपने कंधे पर ले लिए.

माँ बोलीं- अगर दिक्कत हो रही हो तो बेटा बेडरूम में चलें?

मैंने ना में सर हिलाया और मॉम की चूत देखने लगा. मॉम की ब्लैक रंग की चूत थी. मैंने धीरे से उसमें अपनी जीभ को लगाया और अन्दर घुमाने लगा.

अब मॉम को मजा आने लगा और मॉम फिर से ‘आआआहह औरर … तेज्ज … बेटा औरर … अन्दर कर … चोद दे अपनी इस रांड को!’ ये सब कह कर मेरा जोश बढ़ाने में लगी थीं.

मैं बोला- मॉम आज के बाद तू केवल मुझसे चुदेगी.
माँ- राजा मैं तेरी मॉम नहीं … रांड हूँ और मुझे मॉम मत बोल … मेरा नाम लेकर बोल … और रही बात चुदने की, तो ये तो तेरा लंड तय करेगा.
मैं- ठीक है तब सुषमा मादरचोद … अब तू देख … कैसे तुझे रंडियों के जैसे चोदता हूँ. अब तू केवल मेरी रांड बनके रहेगी.

इतना कहने के बाद मैं उनकी चूत को चाटने लगा और मॉम मेरा मुँह अपनी चूत में दबाने लगीं.

थोड़ी देर बाद मॉम की चूत ने पानी छोड़ दिया.

माँ- मेरा राजा बेटा, अब तड़पा मत, अब चोद दे. मेरी चूत प्यासी है लंड के लिए.
मैं- अभी कैसे चोद दूं रानी … अभी तो तेरी गांड बाकी है. बहुत गांड हिलाते हुए चलती है ना … अब बताता हूं जब गांड में लंड जाता है, तो क्या होता है.
माँ- अब तो मैं तेरी ही हूँ, कभी भी गांड मार लेना … पर पहले चुत चोद दे एक बार … तेरा लंड सच में बड़ा मस्त है.

मैंने उनकी बात पर ध्यान नहीं दिया और उनका पैर जमीन पर रखकर उनको पलटने को बोला.

माँ- नहीं मानेगा ना तू … तो ले मार ले गांड … पर कम से कम तेल या क्रीम ही लगा ले, क्योंकि पहले मैंने अपनी गांड नहीं मरवाई है.
मैं- तब तो और मजा आएगा रे छिनाल … और अब तो तेरी गांड बिना तेल के ही मारूँगा … और अब ज्यादा बोल मत, जो बोला है. … वो कर.