मामी के साथ सेक्स का फिल्मी मज़ा

अब मुझे उनकी मस्त चूत के दर्शन हो गये और में उनको बोला देखो ना आज यह इतना क्यों फूंकार मार रहा है? मैंने उनकी चूत को अपनी मुठ्ठी में ले लिया और दूसरे हाथ से बूब्स को दबाते हुए कहा इसे आपकी चूत की खुश्बू मिल गयी है इसलिए यह इतना बैचेन है। दोस्तों मैंने देखा कि मामी की चूत एकदम गोरी गुलाबी और बहुत चिकनी थी और कुछ हल्के बाल भी थे। अब में उनकी चूत पर हाथ फेरता हुआ बोला ओहह मामी मज़ा आ गया देखकर, बहुत सुंदर है आपकी यह चूत और आज तो इस मैदान पर घास भी साफ है, क्यों तो आज इस मैदान पर वो खेल शुरू हो जाए? वो बोली क्या बकवास करता है? में बोला हाँ मामी आज आपने तो मुझे असली जन्नत दिखा दी है अब तो इसकी सैर भी करनी होगी। अब वो बोली तू क्या पागल हो गया है जल्दी से अब तू दूर हट और मुझे खोल दे। फिर में बोला कि अब तो में तुम्हारे साथ पूरा वो द्रश्य करके ही खोलूँगा, चाहे तू अब हाँ कर या ना कर। फिर मैंने यह कहकर उनकी चूत को चूम लिया और उसमे अपने दाँत गड़ाए तो वो दर्द से सिहर उठी और कहने लगी ऐसे मत करो प्लीज। फिर में बोला तो तुम ही बताओ में कैसे करूँ बताती जाओ ना? वो कहने लगी मुझे छोड़ दो ना।

फिर मैंने कहा कि आज तो नहीं मामी तुम भी मस्ती ले लो और में अब उनकी चूत को चाटने लगा और अपनी जीभ को अंदर डालने लगा। दोस्तों उसकी चूत से एक मस्त खुशबू आ रही थी, वो फिर से बोली यह क्या कर रहा है? मैंने कहा मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, मामी बोली ओह्ह्ह तू तो मुझे क्या आज मार ही डालेगा? तू यह सब अच्छा नहीं कर रहा है। अब में बोला मामी आज तो वाह मज़ा ही आ गया, तू आज तक कहाँ थी और अब में उसकी चूत में अपनी ऊँगली को डालकर ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा, उसके मुहं से आवाज़ आ रही थी ऊहह आईईई में मर गई। अब में अपने लंड को हाथ में लेते हुए बोला कि अब आ जा मैदान में और में अपने लंड को उसकी चूत के मुहं पर रगड़ने लगा। फिर अचानक ही मेरा लंड सट से उसकी चूत में घुसा और वो बोली अरे मार दिया जालिम धीरे धीरे डाल। फिर में कहने लगा वाह मज़ा आ गया मामी और में अब अपनी दोनों आँखों को बंद करके और कसकर अपना लंड डालने लगा था, मैंने धक्के देकर चुदाई करना शुरू कर दिया। अब वो मुझसे कहने लगी आह्ह्ह फाड़ दिया रे तूने जालिम, आज इसे मुझे बहुत तंग कर रखा है तूने, में तुझसे बदला जरुर लूँगी, अभी तू दो तीन दिन है, तेरी सारी गर्मी निकाल दूँगी।

अब में धक्के और तेज लगाने लगा और मुझे भी बड़ी मस्ती आ रहा थी। चुदाई का असली मज़ा मिल गया और में बोला मामी चुप होकर मस्ती ले नहीं तो आज तेरी चूत की में धज्जियाँ उड़ा डालूँगा और जब में कुछ देर अपना लंड मामी की चूत के अंदर बाहर करता रहा, तब मैंने देखा कि शायद मस्ती की वजह से मामी की आँखें बंद हो गयी थी और मैंने मौका देखकर एक तूफानी धक्का मारा और पूरे कमरे में मामी की चीख की आवाज गूँज गयी, आईईईईईई आअहह्ह्हह ऊऊईईईईईईईई मार डाला कमीने उूफफफ्फ़ साले आराम से कर, लेकिन मुझे कुछ भी सुनाई नहीं दे रहा था। फिर मैंने एक धक्का और मारा और इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत में अंदर तक समा चुका था। मामी की आंख से आँसू निकल रहे थे और वो अभी भी मुझे गालियाँ दे रही थी और वो मुझसे बोली अच्छा सब ठीक ही हुआ तू अपना रस तो बाहर ही गिराना प्लीज। अब मैंने फट से अपना लंड बाहर निकाला और उनकी नाभि पर अपने लंड से रस की बौछार कर दी और में बोला मामी अब में तुझे खोल देता हूँ। फिर मैंने उसके हाथ पैर खोल दिए और पूछने लगा कि मामी चुदाई का यह द्रश्य कांच में कैसा लगा बोलो ना? और उन्होंने मुझे एक थप्पड़ लगा दिया। फिर मैंने भी उनके बूब्स को ज़ोर से दबा दिया और फिर में चुपचाप बिस्तर पर लेट गया और मामी भी सो गयी।

फिर दूसरे दिन सुबह मामी जल्दी उठ गयी और उनका चेहरा अपने हाथ में लेकर उनको पूछा क्या कल की बात को लेकर नाराज़ हो? वो बोली हाँ हूँ तो सही बहुत ज़्यादा, तूने मेरे साथ जो कुछ भी किया अच्छा नहीं किया और यह कहकर वो बाहर गई और वो वापस कमरे में आ गई और अपने हाथ में वो एक रस्सी लेकर आई थी, वो मुझसे बोली कि आज में तुझे भी बांधूगी और देख में क्या बदला लेती हूँ। फिर मामी ने मुझे उठने का मौका भी नहीं दिया और मेरे हाथ बाँध दिए और फिर मेरे पैरों को भी बाँध दिया। दोस्तों मैंने कोई भी विरोध नहीं किया और सोचा मामी क्या करती है में देखता हूँ? फिर मामी ने मेरी शर्ट के बटन खोल दिए और वो मेरी छाती पर हाथ फेरने लगी और बोली कल तूने मुझे बहुत परेशान किया था ना आज देख में क्या करती हूँ तू देखता जा और एक ज़ोर का थप्पड़ मेरे मुहं पर मार दिया, बोली चुप रहना। फिर मैंने देखा कि उसने अपने कपड़े उतार दिए और वो सिर्फ़ बार और पेंटी में थी मामी मुझे घूरकर देख रही थी और कुछ सोच रही थी। फिर उसने मेरी लूँगी को भी खोल दिया और मेरी अंडरवियर को भी नीचे सरका दिया। इतना सब करके उन्होंने सबसे पहले मेरे निप्पल को और दूसरे हाथ से अब मेरा लंड पकड़कर ज़ोर से दबा दिया, जिसकी वजह से मेरी तो दर्द की वजह से बड़ी ज़ोर की चीख निकल गयी।

Pages: 1 2 3 4 5 6

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *