पड़ोस की महिला को अपने घर पर चोदा

desi chudai ki kahani

मेरा नाम अरविंद है मैं नोएडा का रहने वाला हूं, मेरी नौकरी कोलकाता में लग गई और मुझे कोलकाता जाना पड़ा। मेरे घर वालों ने मुझे बहुत मना किया और कहने लगे कि तुम नोएडा में रहकर ही कोई काम कर लो लेकिन मैंने उन्हें कहा कि यह मेरे भविष्य का सवाल है इसलिए मुझे कोलकाता जाना ही पड़ेगा, मैं वहां कुछ काम कर लूं तो उसके बाद अपना ही खुद का कोई बिजनेस शुरू कर लूंगा क्योंकि मेरे पास अभी इतनी सेविंग भी नहीं है और ना ही हमारे घर की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी है। हम लोग एक मिडल क्लास फैमिली से हैं इसलिए जो भी हम लोग कमाते हैं वह हम अपने खर्चे पर ही लगा देते हैं, मैंने अपने माता पिता दोनों को समझाया और वह मान गए। मेरी बहन भी अभी स्कूल की पढ़ाई कर रही है और वह अभी छोटी है इस वजह से मैंने उसे कहा कि तुम अपनी पढ़ाई पर अच्छे से ध्यान देना ताकि तुम्हारे अच्छे नंबर आ सके।

जब मैं कोलकाता गया तो मुझे शुरुआत में बहुत ज्यादा दिक्कत हुई, मेरा बिल्कुल भी वहां रहने का मन नहीं हो रहा था क्योंकि मैं आज तक हमेशा ही अपने घर पर रहा हूं इसलिए मुझे बिल्कुल भी समझ नहीं आ रहा था कि मैं कैसे एडजेस्ट करूंगा लेकिन धीरे-धीरे मुझे आदत होने लगी। जब मैं शुरुआत में एक घर में रह रहा था तो वहां पर मेरे साथ में 3 लड़के और रहते थे और वह बहुत ज्यादा गंदगी करते थे लेकिन मुझे अपने काम से बिलकुल भी फुर्सत नहीं मिल रही थी इसलिए मैं अपने घर को नहीं बदल पा रहा था। मैंने कई बार इस बारे में सोचा भी लेकिन जहां मैं घर देखने के लिए जाता हूं वहां पर भी मुझे कोई ऐसी जगह नहीं मिलती जहां पर साफ-सफाई हो इसी वजह से मैं वह घर बदल नहीं पाया। एक दिन मेरे ऑफिस के ही एक मित्र ने मुझे कहा कि यदि तुम्हें घर लेना है तो मेरे पड़ोस में ही एक घर खाली है यदि तुम वहां पर आ जाओ तो तुम्हें बहुत अच्छा लगेगा क्योंकि वह घर काफी समय से खाली पड़ा है और वह लोग किसी को भी किराए पर नहीं देते परन्तु इस वक्त तो वह किराए पर देने के लिए मान चुके हैं। मैं जब उनसे मिलने के लिए गया तो मुझे वह लोग बहुत अच्छे लगे, उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम कहां के रहने वाले हो, मैंने उन्हें बताया कि मैं नोएडा का रहने वाला हूं।

वह मुझे कहने लगे कि क्या तुम यहां पर अकेले रहोगे, मैंने उन्हें कहा कि हां मैं अकेला ही रहूंगा इसीलिए उन्होंने मुझसे ज्यादा किराया नहीं लिया और कहने लगे कि हम लोग भी यहां पर नहीं रहते, हम लोगों ने यह घर काफी पहले लिया था लेकिन हमारा ऑफिस यहां से काफी दूर पड़ता है इसलिए हम लोग यहां पर नहीं रहते और हम लोगों ने इसे किराए पर भी नहीं दिया। मैंने उन्हें कहा कि यदि आप इसे मुझे किराए पर दे दे तो मैं घर की भी देखभाल कर लूंगा, वह कहने लगे कि हम लोग यही सोचते हुए तो घर किराए पर देने के लिए सोच रहे हैं। जब वह लोग मुझे घर देने को तैयार हो गए तो मैं भी अपना सारा सामान ले आया। मेरे दोस्त ने भी मेरी बहुत मदद की और हम लोगों ने काफी सारा सामान बाजार से भी खरीदा क्योंकि मेरे पास कुछ भी सामान नहीं था। मैं जिन लड़कों के साथ रह रहा था उन्हीं के पास एक एक्स्ट्रा बेड पड़ा हुआ था इसलिए मैं उस पर ही शाम को जाकर लेट जाता था और खाना भी बाहर से खाता था लेकिन अब मैं अपने घर को अच्छे से सजाने लगा और मैंने घर की अच्छे से साफ सफाई करवा दी। मैं एक दिन बाहर से अपने साथ एक व्यक्ति को भी ले आया और उसे मैंने घर की साफ सफाई करने के पैसे दिए, उसने घर को बहुत अच्छे से साफ कर दिया था इसलिए मुझे उस घर में रहने में भी अच्छा लग रहा था और जब मेरे लैंडलॉर्ड घर देखने के लिए आए तो वह बहुत खुश हो गए और कहने लगे कि तुम यदि इसी प्रकार से यहां पर रहोगे तो हमें भी बहुत खुशी होगी। वह लोग भी ऐसे ही चाहते थे कि उन्हें कोई ऐसा व्यक्ति मिले जो उनके घर की देखभाल भी कर सके और घर की साफ सफाई भी अच्छे से कर पाए। मुझे बिल्कुल भी गंदगी पसंद नहीं है इसलिए मैंने उनके पूरे घर के आगे पीछे जितनी भी झाड़ियां थी वह सब साफ करवा दिया और उनका घर बिल्कुल साफ हो गया। वह लोग मुझसे बहुत ही खुश थे। मुझे जब भी कोई आवश्यकता होती तो मैं अपने दोस्त को बोल देता, वह मुझे वह सामान दिलवा देता था।

मुझे उस कॉलोनी में रहते हुए काफी वक्त होने लगा था और सब लोग मुझे पहचानने लगे थे। एक दिन मैं पास की ही दुकान पर सामान ले रहा था तो वहां पर एक महिला आई और वह दुकान वाले से पूछ रही थी कि यदि आपके यहां पर कोई काम हो तो आप मुझे बता दीजिए। मैं उनकी बात ध्यान से सुन रहा था और मैंने काफी देर तक कुछ भी नहीं कहा लेकिन जब वह जाने वाली थी तो मैंने उनसे पूछा कि क्या आपको नौकरी की जरूरत है, वह कहने लगी हां मैं अपने लिए कोई नौकरी ढूंढ रही हूं। मैंने उनसे कहा कि आप तो अच्छे घर से लगती हैं और ठीक-ठाक पढ़ी हुई भी लग रहे हैं लेकिन आप यहां छोटी सी दुकान पर काम ढूंढ रहे हैं, मुझे यह बात समझ नहीं आई। वह पहले मुझसे कुछ नहीं कह रही थी लेकिन जब मैंने उन्हें अपना परिचय दिया और बताया कि मैं भी यहीं पास में रहता हूं तो वह थोड़ा कंफर्टेबल हो गई और मुझसे खुलकर बात करने लगी। वह मुझे पास की एक चाय की दुकान में ले गए और वहां पर हम लोग बैठे हुए थे। उन्होंने मुझसे अपनी सारी बात शेयर कि, वह कहने लगी कि मेरे और मेरे पति की बिल्कुल भी आपस में बनती नहीं है इस वजह से हम दोनों का डिवोर्स होने वाला है, वह मुझ पर बेमतलब ही शक करते हैं, मैंने उन्हें कई बार समझाया कि मेरा किसी के साथ भी रिलेशन नहीं चल रहा है लेकिन वह मेरी बात मानने को बिल्कुल भी तैयार नहीं है और कहते हैं कि तुम्हारा किसी ना किसी के साथ तो जरूर कोई चक्कर चल रहा है।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *