मेरी पड़ोसन ब्लू फिल्म की सीडी लगवा के गोदी में बैठ जाती हे और ब्लू फिल्म देखते हुए चुदवाती

padosan ki jamkar chudai ki मेरा नाम राज हे और मैं दिल्ली से हूँ. मैंने इस साईट के ऊपर बहुत सब चुदाई की कहानियाँ पढ़ पढ़ के बहुत मजे लिए हे. और आप लोगों के लिए आज मैं एक जोश और चुदास से भरी हुई सेक्स कहानी ले के आया हूँ. मैं तो कब से आप लोगों को ये किस्सा बताना चाहता था. पर वक्त ही नहीं मिला लिखने का. उम्मीद हे की मेरी लिखावट आप को पसंद आएगी! दोस्तों ये कहानी मेरी और मेरे पड़ोस में रहनेवाली एक भाभी जी की हे. मेरी उम्र 26 साल हे और मरे लंड की लम्बाई साड़े सात इंच जितनी हे. और मेरा लोडा पूरा साड़े तिन इंच जितना मोटा हे. भाभी की उम्र 32 साल हे और वो एक मस्त फिगर की मालकिन हे. वो 36-28-38 का सेक्सी फिगर रखती हे. और दिखने में वो दीपिका पादुकोण के जैसी लम्बी और सेक्सी हे. उनके गदराये हुए शरीर की वो बनावट, सेक्सी आँखे, सेक्सी चहरा, बड़े बड़े पहाड़ के जैसे बूब्स और उस से भी बड़ी उनकी वो देसी गांड जिसको देख कर हर किसी का लंड पानी छोड़ने के लिए कराह उठे. और भाभी की मादकता हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित करे ऐसी ही थी.

भाभी के बड़े झूलते हुए देसी बूब्स और मटकती गांड मुझे बहुत ही सेक्सी लगती थी. मैं पहले उन्के बारे में कुछ ऐसा नहीं सोचता था. लेकिन इस घटना के बाद मैंने कभी भी उन्के बारे में सही नहीं सोचा हे. अब वो मेरे लिए एक सेक्स पिस हे जिसे मैं जब चाहूँ अपने लंड से बजा दूँ. और वो भी तो अपनी जरूरतों के हिसाब से मुझे यूज करती हे. पति घर पर ना हो तो ब्लू फिल्म की सीडी लगवा के गोदी में बैठ जाती हे मेरे और ब्लू फिल्म देखते हुए चुदवाती हे मेरे से. आज मैं आप को मेरी और भाभी की पहली चुदाई के बारे में बताने आया हूँ. मेरा और मेरे परिवार के बाकी के सदस्यों का भी भाभी के घर पर हमेशा आना जाना लगा रहता हे. और सब से ज्यादा तो मैं ही उन्के घर पर आता जाता हूँ. क्यूंकि उन्के घर के और बहार के छोटे मोटे काम वो मेरे से ही करवाती हे.

एक दिन की बात हे. उस दिन भाभी को घर के ऊपर अकेली ही थी. मैं उसके वहाँ पर गया तो भाभी बोली, राज बताऊँ आज तो सुबह से मेरे सर में ऐसे दर्द हो रहा हे! दर्द के मारे जैसे नसे फट रही हे सर की. प्लीज़ जरा मेरा सर के लिए मार्केट से दवाई ला दो गे?

मैं: हाँ भाभी अभी ले के आया.

मैं अपनी बाइक पर फट से मेडिकल गया और एक डिस्पिरिन ले आया. भाभी ने दवाई खा ली. मैं वही बैठा रहा. वो सोफे के ऊपर लम्बी पड़ी थी. 10 मिनिट के बाद भाभी बोली, राज दर्द में तनिक भी कमी नहीं आई हे. क्या तुम मेरे सर को थोडा दबा दो गे?

मैंने कहा हां अभी दबा देता हूँ.

मैं भाभी के सराहने के पास बैठा और उसके सर के ऊपर अपनी उँगलियों से प्रेशर देने लगा. भाभी की आँखे बंद होने लगी थी. मैंने बंद आँखों की पलकों के ऊपर हलके से काटा. भाभी को आराम मिलने लगा था.

वो बोली, राज तुम्हारे हाथो में तो जादू हे यार!

और फिर मैं कुछ देर तक ऐसे ही मसलता रहा भाभी के माथे को. मेरी नजर बार बार उसकी डीप गली के ऊपर जाती थी. दो पहाड़ के जैसे बूब्स के बिच में वो खाई लग रही थी. मेरे लंड में अपनेआप ही सुजन होने लगी थी.

भाभी बोली: चल अब दर्द मिट गया, थेंक्स राज. चल मैं अब तुम्हे इलायची और अदरक वाली चाय पिलाऊं और खुद भी पी लूँ.

मैं: भाभी अभी मुझे घर जाना हे, आप के हाथ की चाय पिने फिर कभी आ जाऊँगा.

भाभी: अरे भाई थोडा हमारे पास बैठोगे तो घर वाले मार नहीं डालेंगे. और तुम्हारी माँ कुछ कहे तो बोलना की मैंने बिठाया था!

मैं कुछ नहीं बोला. भाभी जल्दबाजी में उठी और उसका पाँव मूड गया. वो गिरे उसके पहले मैंने उसे थाम लिया अपनी बाहों में. मेरा एक हाथ भाभी की सॉफ्ट गांड पर और दूसरा उसकी कमर के ऊपर था. और उस वक्त मेरा लंड भाभी के पेट के ऊपर टच हो रहा था.

भाभी बोली, थेंक्स राज, अभी तुम नहीं होते तो मैं गिर ही जाती.

और तब तक वो मेरी बाहों में ही थी. मेरी नजर उसके बूब्स के ऊपर टिकी हुई थी. जिन्हें देख के ही मेरे लंड में अजब सी मस्ती आ रही थी.

मैं: भाभी ऐसी कोई थेंक्स की बात नहीं हे ये तो मेरा फर्ज ही हे.

भाभी बोली, लगता हे की मेरी कमर में झटका लगा हे और अब वहां पर दर्द हो रहा हे!

मैं: हां लगता हे की पाँव मुड़ने कि वजह से आप की कमर में धक्का लगा होगा.

वो बोली: बहुत दर्द होने लगा हे एकदम से यार!

अब की मैं बोला: आप कहो तो आप की कमर में मसाज कर दूँ भाभी, दर्द हल्का हो जाएगा!

भाभी ने स्माइल दी और वो बोली, राज तुम बड़े ही अच्छे लड़के हो अपनी भाभी का कितना ख्याल रखते हो. अब तुम अपनी उँगलियों के जादू से मेरी कमर का दर्द भी कम कर दो.

भाभी ने अपने गाउन को ऊपर उठा लिया और वो अपनी कमर मेरी तरफ कर के उलटी लेट गई. मेरे लंड में धडकन आ गई थी जैसे क्यूंकि वो काँप रहा था. मैं कमर के ऊपर हाथ मल रहा था तो भाभी बोली: राज एक काम करों वहां डाबर का लाल तेल हे वही लगा दो मेरी कमर के ऊपर तो अच्छा मसाज हो जाएगा.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *