पति से चुदाई तो देवर गान्ड चोदा

हैलो दोस्तों, दीपा की शादीशुदा जीवन रंगीन होने लगी तो मेरे पति नमन सप्ताह में चार से पांच बार जरूर मुझे चोदते या गान्ड मारा करते थे तो दिल्ली केंट में पति के साथ रहते हुए छह महीने बीत गए और इस बीच मेरे बदन का रस सिवाय पति के कोई नहीं चखा तो दीपा की २२ साल की जवानी देख कोई भी तड़प उठता और मैं शादी के बाद और निखर सी गई थी जैसा कि लोगों का मानना है कि शादी के बाद लड़कियां और खूबसूरत साथ ही जवान लगने लगती है, वो तो होगा ही आखिर दो जिस्म का मिलन कुछ तो बदन पर प्रभाव डालेगा और फिर एक सुबह मेरे पति चाय पीते हुए बोले ” परसों विवेक आ रहा है ( मैं थोड़ी खुश हुई ) चलिए अच्छी बात है शादी के बाद एक ही बार मुलाकात हुई है ( पति ) क्या बात है कि तुम बहुत खुश हो रही हो ( उनके इशारे को समझते हुए थोड़ा गुस्सैल चेहरा की ) आप भी क्या क्या सोचते हैं ” तो मेरे देवर विवेक दो दिन के बाद आए तो मेरे पति तभी ऑफिस से वापस नहीं आए थे, विवेक डायनिंग हॉल में बैठकर जूता खोलने लगा ” भाभी एक ग्लास पानी ” तो मैं उसके सामने से अपने चूतड हिलाते हुए किचन कि और चली गई वैसे भी विवेक और मेरे बीच संभोग क्रिया दो तीन बार हो चुका था तो झिझक और शर्मिंदगी का तो कोई सवाल ही नहीं था, मैं सलवार सूट में थी तो एक ग्लास पानी लाकर उसे दी और फिर वो वाशरूम चला गया तो मैं कॉफ़ी बनाने लगी और थोड़ी देर के बाद मुझे अपने पीछे उसके होने का एहसास हुआ तो मैं मुड़कर देखी की वो मुझे पीछे से ही पकड़ लिया और मेरे गर्दन साथ ही चेहरा को चूमने लगा ” क्या विवेक, तुम्हारे भाई का आने का वक्त हो चला है ( वो मुझे छोड़ा ) तो क्या हुआ, रात को आपसे ढेर सारी बातें होंगी ” मैं विवेक के साथ कॉफी पीने लगी…….. रात के १०:३० बजे, जब मैं, विवेक और मेरे पति खाना खाकर अपने अपने रूम में थे तभी मुझे लगा कि नमन के सोते ही विवेक के पास जाकर पुरानी यादों को ताजा किया जाए तो मैं सेक्सी नाईट गाऊन पहन पूरे तरह से तैयार थी, बेड पर नमन लेटा हुआ था तो करवट लेकर सो रही थी, तभी मुझे अपने बदन पर उसके हाथ का एहसास हुआ तो मैं पीछे मुड़कर देखी ” क्या बात है डियर ( वो मेरे बूब्स पर हाथ फेरने लगा ) आज बहुत मन कर रहा है ( मैं चित लेटकर बोली ) भूख लगी है और भोजन भी सामने है तो देर किस बात की ” और नमन मेरे उपर सवार होकर चेहरा चूमने लगा, देवर से बाद में चुदूंगी पहले पति का मन संतुष्ट तो कर दूं, वो मेरे ओंठ पर ओंठ रख चुम्बन देने लगे तो मैं नमन के शॉर्ट्स को कमर से नीचे करते हुए उसके मुंह में ही अपना ओंठ घुसा कर चूस्वाने लगी और मेरे बूब्स उसके छाती से दबने लगे तो पल भर में ही मेरा जीभ नमन के मुंह में था साथ ही उसका निचला हिस्सा नंगा था तभी उसके मुंह से जीभ निकाल ली तो नमन मेरे बदन पर से उतरकर मेरी नाईट गाऊन की डोरी खोलने लगा, मैं खुद जल्दी में थी और झट से अपने तन से नाईटी उतार नंगी हो गई तो नमन भी अपना बनियान उतार दिया। जुलाई की गर्मी और उमस भरी मौसम में दोनों नग्न थे तो पति ने मेरे स्तन पर ही मुंह लगा डाला फिर मेरी गोल गोल चूची को मुंह में लिए चूसने लगा तो उसके पीठ सहलाते हुए मैं अचानक से उनके दोनों जांघों के बीच लंड के फुंफकार को देखी तो नमन के चेहरा को पीछे धकेल बोली ” अब असली काम तो कीजिए ( वो दूसरे स्तन को पकड़ दबाने लगा ) पहले दूध पीकर ताकत तो ले लूं फिर तो तेरी ऐसी चुदाई करूंगा की बाप बाप करोगी ” और मैं मुस्करा कर रह गई तो नमन मेरी चूची को मुंह में लिए चूसने लगा तो दीपा की कामुकता चरम पर थी, दोनों जांघों को आपस में रगड़ते हुए चूत की खुजली को शांत करने लगी फिर वो चूची छोड़ मेरे जिस्म पर से हटा, जल्दी से चोद कर सो जाए फिर देवर के साथ मजे लूंगी, अब नमन मेरी जांघें फैलाए चूत को पहले तो किस्स किया फिर लंड पकड़े सुपाड़ा को चूत में घुसाने लगा, आराम से उनका आधा लंड निगल कर तेज धक्के की उम्मीद में मरी जा रही थी और तभी वो मेरी कमर पकड़ जोर का धक्का मारे ” ओह उई फट गई रे आराम से चोद ना ” तो नमन दे दनादन चोदने लगा साथ ही मेरी बूब्स दबाने लगा तो मैं इस उम्मीद में थी कि वो मेरे जिस्म पर लेट जाए और मैं अपने चूतड उछाल उछालकर उसके लंड को जल्दी से खलास कर दूं ताकि देवर के संग पूरी रात सेक्स का आनंद ले सकूं। नमन का ८-९ इंच लम्बा लंड मेरी चूत को दर्द के साथ मस्ती भी दे रहा था तो उसे मजा देने के लिए मैं रह रहकर अपनी गोल गद्देदार गान्ड को उछालने लगी, पल भर में ही मेटी चूत रस से सराबोर हो गई तो मेरा बुर चट्ट पति लंड को चूत से निकाल झुका फिर बुर में जीभ घुसाए चाटने लगा और मैं थोड़ी सुस्त पड़ गई फिर नमन कि लम्बी जीभ मेरे चूत को चाटे जा रहा था और मैं मदहोश होकर आहें भर रही थी ” ओह उह चाट साले मजा ले अपनी बीबी की भतियान चाट रे कुत्ते ” तो वो बुर का रस चाट जीभ निकाला फिर उठकर वाशरूम चला गया और दोनों फ्रेश हुए, वक़्त रात के ११:१५ बजे थे…. to be continued.