साली की चूत चुदाई का सपना पूरा हुआ

शुरुआती ना-नुकुर के बाद वो शिथिल पड़ गई और उसने मेरी बांहों में समर्पण कर दिया. मैंने कई मिनट तक उसके जिस्म की गर्मी को महसूस करते हुए उसको बांहों में लिपटाये रखा और चूमता रहा.

उसकी गांड मेरे तन चुके लंड पर रगड़ खाने लगी थी. यह इस बात का संकेत था कि वह उत्तेजित होकर सेक्स क्रिया के लिए तैयार हो गयी थी. वो बार बार मेरे लंड पर अपनी गांड से सहला रही थी जिससे मेरे लंड में एक वेग सा उठते हुए उसमें जोर का उछाला दे रहा था.

मैंने उसकी गांड की दरार में उसके गाउन के ऊपर से ही उसके चूतड़ों में लंड को दबाना शुरू कर दिया. उसकी चूचियों को उसके गाउन के ऊपर से दबाते हुए मैं उसके बदन के ऊपरी हिस्से को जगह जगह से चूमने लगा. कभी उसके कंधे पर चुम्बन कर रहा था तो कभी उसकी पीठ पर.

वो भी मादक सिसकारियां लेते हुए इस बात का इशारा कर रही थी उसके अंदर अब वासना की आग को हवा दी जा रही है जो हर पल भड़कती ही जा रही है.

हनी को अपनी ओर घुमाकर मैंने उसके होंठों पर अपने दहकते हुए होंठ रखे और उसके होंठों का रसपान करने लगा. हनी भी जैसे इस पल का इंतजार सा कर रही थी और वो मेरे होंठों से लार को खींचने लगी.

उसके मुंह की लार मैं अपने मुंह में खींचने की कोशिश कर रहा था और वो मेरे मुंह की लार अपने मुंह में खींचने का प्रयास कर रही थी. दोनों ही एक दूसरे के होंठों का रस पीने में लगे हुए थे.

थोड़ी देर तक उसके होंठों का रसपान करने के बाद में मैंने उसका गाउन उतार दिया. उसका मखमली बदन मेरे सामने उभरकर आ गया था जो ऐसे लग रहा था कि किसी ने कामदेवी का मूर्त रूप संगमरमर पर तराश दिया हो.

गाउन उतारते ही उसके स्तन मेरे सामने नंगे हो गये थे. नहाने के बाद उसने ब्रा नहीं पहनी थी. नीचे से उसकी पैंटी भी गीली सी लग रही थी. मैंने पल दो पल उसको नजर भर कर देखा और फिर उसकी चूचियों पर मुंह को रख दिया. मेरे गर्म होंठ उसकी चूचियों को छू गये.

जैसे ही मेरे होंठ उसकी चूचियों पर रखे गये तो उसने जोर से एक आह्ह सी ली और फिर मेरे सिर को पकड़ कर अपने स्तनों पर दबा लिया. मेरे होंठ उसके स्तनों में धंस गये. मैं उसके स्तनों के निप्पलों को पीने लगा.

हनी के मुंह से आह्ह … आई … उम्म … जैसी मादक आवाजें निकलना शुरू हो गयीं. पुच… मुच … मुआह्ह … जैसी आवाजों के साथ मैं उसके स्तनों को चूसने लगा और वो कामुकता के शिखर की ओर रवानगी भरने लगी.

इधर मेरे लौड़े का हाल भी बुरा हो गया था. मगर उससे भी ज्यादा बुरा हाल साली की गर्म चूत का मालूम पड़ रहा था. उसने नीचे से पैंटी पहनी हुई थी और मेरा हाथ अनायास ही साली की पैंटी पर चला गया जिसमें उभर रहा गीलापन मेरी उंगलियों को छू रहा था.

कुछ देर तक उसकी चूचियों को पीते हुए मैं उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से मसलता रहा और वो पागल सी हो गयी. मेरा लंड फटने को हो गया था. वो अब मेरे लंड को मेरी पैंट में से दबाते हुए उसको खींचने लगी थी.

ऐसा लग रहा था कि वो लंड को बाहर लाकर अपने हाथ में भरना चाहती थी. मुझसे भी रुका नहीं जा रहा था. मैंने साली की पैंटी में हाथ डाल दिया. जैसे ही उसकी गीली गर्म चूत पर मेरी उंगलियां लगीं तो एकदम से उचक कर मुझसे लिपट गयी.

Sali Ki Chut Chudai
Sali Ki Chut Chudai
मेरी गर्दन को चूमते हुए अपनी चूत को मेरे हाथ मेरे हाथ पर मसलने लगी. मैं भी उसकी गीली चूत को सहलाने लगा और वो नीचे से मेरे लंड को दबाने लगी. अब दोनों ही बेकाबू से हो गये.

हनी को लेकर मैं अब बेडरूम में आ गया. उसको लिटाकर मैं बारी बारी से उसकी दोनों चूचियां चूसने लगा. मेरा दायां हाथ पैन्टी के ऊपर से ही साली की चूत को सहला रहा था. हनीप्रीत के हाव भाव बता रहे थे कि चुदवाने के लिए वो बेताब हो रही थी.

मैंने उसकी पैन्टी उतारी और 69 की पोजीशन में लेटकर अपनी साली की चूत चाटने लगा. जैसे ही उसकी चूत पर मेरे गर्म होंठ लगे तो वो सिसकारते हुए मेरे लंड को पैंट के ऊपर से ही चूमने लगी.

फिर उसने मेरी पैंट की चेन को खोल लिया और मेरे लंड को बाहर निकाल लिया. लंड को बाहर लाते हुए उसने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया. मस्ती में मेरे लंड पर अपने गर्म होंठ कसते हुए वो मेरे लंड को चूसने लगी और दूसरी ओर मेरी जीभ उसकी चूत की गहराई नापने लगी.

वो भी चूतड़ खिसका-खिसकाकर चूत के मुख चोदन का मजा ले रही थी. उसके मुंह में लेने से मेरा लंड एकदम से फूल सा गया था और पहले ज्यादा मोटा सा लगने लगा था. मैं उसके मुंह को हल्के हल्के चोदने लगा था. वो बीच बीच में लंड को मुंह से निकाल कर उसके टोपे को चाट लेती थी जिससे उत्तेजित होकर मैं उसकी चूत में पूरी जीभ घुसा देता था.

जब मुझसे बर्दाश्त न हुआ तो मैंने लंड को बाहर खींच लिया और अपने कपड़े खोलने लगा. मैंने अपनी शर्ट और पैंट को सेकेन्ड्स की स्पीड से उतार फेंका और अंडरवियर निकाल कर नंगा हो गया. एक बार फिर से उसकी चूत में जीभ दे दी और मेरी साली मेरे लंड के साथ खेलने लगी. उसको हाथ में लेकर दबाते हुए मुंह में लेकर लॉलीपोप के जैसे चूसने लगी.