शिमला की ठंड में अंकल का लंड अपनी योनि में लेकर अलग ही मजा आया

antarvasna,desisex kahani

मेरा नाम सारिका है मैं पुणे की रहने वाली हूं, मेरी शादी को 5 वर्ष हो चुके हैं लेकिन इन 5 वर्षों में मेरे शादी बिल्कुल भी अच्छे से नहीं चल पाई। मेरे पति और मेरे बीच में ज्यादा नहीं बनती, हमारे अभी तक बच्चे नहीं हुए हैं जिसकी वजह से सब लोग मुझ पर ही उंगली उठाते हैं और मेरे पति ने भी मेरा कभी भी साथ नहीं दिया। उनका किसी अन्य महिला के साथ रिलेशन भी है, जिसकी वजह से हम दोनों के रिलेशन में खटास पैदा हो चुकी है और मुझे लगता है कि क्यों ना मैं अपने पति से अलग हो जाऊं इसलिए मैं कुछ समय के लिए अपने मायके चली गई। जब मैं अपने मायके गई तो मेरे माता-पिता मुझसे पूछने लगे की तुमने क्या अमित के साथ अपने रिलेशन खत्म कर लिये है, मैंने उनसे कहा नहीं मैंने अमित के साथ रिलेशन खत्म नहीं किया है लेकिन मैं कुछ समय के लिए अलग रहना चाहती हूं।

मेरे माता-पिता बहुत ही खुले विचारों के हैं और उन्होंने मुझे कभी भी किसी चीज के लिए रोका नहीं इसलिए उन्होंने मुझे कहा कि यदि तुम अपने रिलेशन में कुछ समय चाहती हो तो तुम हमारे साथ ही रह सकती हो, मेरी छोटी बहन अभी कॉलेज में पढ़ रही है इसलिए मैं नहीं चाहती कि मेरे और अमित के रिलेशन का उस पर भी असर पडे। मेरे पिताजी बहुत ही समझदार हैं, एक दिन उन्होंने मुझे अपने रूम में बुलाया और वह मुझसे बात करने लगे, मेरे पिताजी मुझे हमेशा ही सपोर्ट करते हैं और वह मुझे हमेशा ही समझाते हैं कि यदि तुम्हारे और अमित के बीच रिलेशन अच्छा नहीं चल रहा है तो तुम्हें कुछ समय के लिए अपने आप को भी समय देना चाहिए। मैंने अपने पिताजी से सारी बात कही और उन्हें बताया कि हम दोनों की शादी को 5 वर्ष हो चुके हैं, इन 5 वर्षों में हम दोनों के बीच में बहुत ज्यादा झगड़े हुए हैं और अब मेरी अमित से बिल्कुल भी नहीं बनती इसीलिए मैं अलग रहना चाहती हूं। जब मैंने अपने पिताजी से यह बात कही तो वह कहने लगे कि तुम अपना डिसीजन खुद ही ले सकती हो और तुम अब समझदार हो चुकी हो इसलिए मुझे तुम पर पूरा भरोसा है।

मैंने अपने पिता से कहा कि मुझे कुछ समय चाहिए क्योंकि मैं अलग रहना चाहती हूं ताकि मैं अपने आप को समझ संकू की कहीं मेरी वजह से ही अमित को कोई दिक्कत तो नहीं है। मैंने अपने पिताजी से यह बात भी कही कि अमित का किसी अन्य महिला के साथ चक्कर चल रहा है लेकिन अमित ने यह बात कभी एक्सेप्ट नहीं की, मैंने भी उसे इस बारे में कभी नहीं कहा। मेरे पिताजी कहने लगे ठीक है तुम कुछ समय ले लो और तुम्हारा जो भी फैसला होगा तुम मुझे बता देना, मैंने अपने पिताजी से कहा ठीक है मैं कुछ समय और लेना चाहती हूं उसके बाद ही मैं कोई निर्णय ले पाऊंगी कि मुझे अमित के साथ रहना है या फिर मुझे अपना जीवन अकेले ही जीना है। मेरे पिताजी एक बड़े अधिकारी हैं और मेरी मां भी एक अध्यापिका है, इसलिए हमें पहले से ही आर्थिक तंगी नहीं थी। मैंने कुछ दिनों बाद अपने पिताजी से कहा कि मैं घूमने के लिए जाना चाहती हूं, वह कहने लगे ठीक है यदि कुछ समय तुम कहीं जाना चाहती हो तो तुम मुझे बता दो, मैंने उन्हें कहा कि मैं कुछ समय के लिए शिमला में ही रहना चाहती हूं क्योंकि शिमला में मेरी एक सहेली भी है। मेरे पिताजी कहने लगे शिमला में मेरे बहुत ही अच्छे मित्र हैं, तुम कुछ समय के लिए उनके घर पर ही रह सकती हो,

मैंने उन्हें कहा कि लेकिन मैं उनके साथ एडजस्ट नहीं कर पाऊंगी, वह मुझे कहने लगे कि उनका एक घर है जो काफी समय से बंद पड़ा है यदि तुम वहां रहना चाहती हो तो मैं उनसे फोन पर बात कर लेता हूं, मैंने अपने पिताजी से कहा ठीक है आप उनसे एक बार बात कर लीजिए। मेरे पिताजी ने मेरे सामने ही उन्हें फोन कर दिया और वह कहने लगे कि आप सारिका को शिमला भेज दीजिए, उसे किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी, मेरे पिताजी ने मुझे संजीव अंकल का नंबर दे दिया और जब मैं संजीव अंकल से मिली तो मुझे उनसे मिलकर बहुत अच्छा लगा। वह कहने लगे कि तुम्हारे पिताजी ने मेरी बहुत ही मदद की है और मैं उनका हमेशा ही एहसान मानता हूं। मैं उस दिन उनके घर पर ही गई थी, उनका घर बहुत ही बड़ा और आलीशान था, मैंने संजीव अंकल से कहा कि क्या आप घर में अकेले ही रहते हैं, वह कहने लगे कि मैं अब अकेला ही रहता हूं क्योंकि मेरे दोनों बच्चे बेंगलुरु में सेटल हो चुके हैं और वह कभी-कभार छुट्टियों में शिमला आ जाते हैं और मेरी पत्नी का देहांत तो काफी समय पहले ही हो चुका है।

मैंने संजीव अंकल से कहा कि आप अकेले कैसे समय बिताते हैं, वह कहने लगे कि अब मुझे आदत हो चुकी है और नौकर चाकर भी घर में है तो मेरा समय कट ही जाता है। मैंने उनसे पूछा कि आप खाली समय में क्या करते हैं तो वह कहने लगे कि मैं जब भी खाली होता हूं तो मैं अपने पुराने दोस्तों से मिलने के लिए चला जाता हूं क्योंकि मैं अब रिटायर हो चुका हूं इसलिए मेरे पास बहुत समय रहता है। मैंने संजीव अंकल से कहा कि चलो अब मैं आपको कंपनी देने के लिए आ गई हूं तो अब आप का भी टाइम पास हो जाया करेगा और मुझे भी आपकी कंपनी मिल जाएगी। संजीव अंकल मेरी बातों से बहुत खुश हुए और कहने लगे की मुझे तुमसे बात कर के बहुत अच्छा लग रहा है, वह मुझे कहने लगे कि मैं तुम्हें अपने दूसरे घर की चाबी दे देता हूं, तुम वही पर रह लेना।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *