सुहागरात पर किये मजे

antarvasna sex stories मैं तो गोवा गयी थी अपने हसबैंड स्टीफेन के साथ हनीमून मनाने ? मुझे क्या मालूम था की उसी रात को मुझे विदेशी लण्ड भी मिल जायेंगे ? मेरे हसबैंड को क्या मालूम था की उसे विदेशी चूत मिल जाएगी . मुझे विदेशी मर्दों से चुदवाने में इतना मज़ा आ रहा था की मैं सोचने लगी की काश, आज की रात और लम्बी हो जाये ?

मेरा हसबैंड तो विदेशी बीवियां चोदने में इतना मस्त हो गया की उसे दुनिया में किसी और की खबर ही न थी . मैं तो गयी थी एक लण्ड से चुदवाने और मिल गए मुझे कई लण्ड ? वो भी बड़े मस्त मलंग लण्ड जिसकी मैंने कभी कल्पना भी न की थी . ओ’ माई गाड ? मैं एक दिन क्या पूरे हफ्ते उन मर्दों के लण्ड का मज़ा लेती रही ?

loading…

>>>> मेरा नाम है लिंडा . मैं 26 साल की एक दुल्हन हूँ जिसकी की शादी स्टीफेन के साथ हुई है . मैं अपने हसबैंड के साथ यहाँ गोवा में हनोमून मनाने आयी हूँ . मैंने सुना था की हनोमून के लिए गोवा से अच्छी जगह कोई और नहीं है . मैं सवेरे यहाँ पहुंची और होटल में चेक इन किया . दिन भर खूब घूमा और शाम को वापस आ गयी . हम दोनों थोडा थक चुके थे .इसलिए लिए थोडा आराम किया . उसके बाद डिनर लिया और फिर रात में खूब सेक्सी बातें करते हुए चुदवाया . मुझे अपने हसबैंड का लण्ड पसंद आया और उसको मेरी चूत . उसने मुझे रात में तीन बार चोदा . सवेरे उठ कर फिर एक बार चोदा ? वाह कितना मस्त लौड़ा है उसका ? मैं हर बार उसके लण्ड की तारीफ करती तो लण्ड सख्ती से खडा हो जाता .
दूसरी शाम को जब हम लोग वापस आये तो मेरी एक सहेली मिल गयी . उसका नाम है नीलू . वह भी अपने हसबैंड नीरज के साथ हनीमून पर आयी थी .
मैनें कहा :- यार तेरी शादी तो पिछले साल हुई थी और तू इस साल हनीमून मना रही है ?
>>>> नीलू बोली :- अरे यार मैं यहाँ साल में दो बार आती हूँ हनीमून मनाने .
>>>> मैने पूंछा :- यार ऐसा क्या है हनोमून में ?
>>>> उसने कहा :- अरे तुम्हे नहीं मालूम क्या ? यहाँ तो लोग ग्रुप से मनाते है हनीमून . वह भी एक दूसरे की बीवियों के साथ ? यहाँ विदेशी कपल बहुत आते है . वे तो जरुर ग्रुप में मनाते है
>>>> मैंने कहा :- यार ज़रा खुल कर बताओ ये सब कैसे होता है ?
>>>> उसने बताया :- यार यहाँ नीचे एक हाल में रात को 10 बजे के बाद सारे कपल आते है . वे पहले थोडा शराब पीते है और एक दूसरे की बीवियां चोदते है . बीवियां भी बड़े मजे से एक दूसरे के हसबैंड से चुदवाती है . यार देखो हम लोग अपने अपने घर में एक ही लण्ड से चुदवाते चुदवाते बोर हो जाते है . हर बार वही लण्ड ? और यहाँ देखो . जाने कितने तरह के है लण्ड ? मैं तो जम कर सब मर्दों के लण्ड का मज़ा लेती हूँ . सबसे बिंदास चुदवाती हूँ और सारे लण्ड चाट चाट कर खूब एन्जॉय करती हूँ . इसी तरह मेरा हसबैंड भी विदेशी बुर खूब चोदता है . मेरे सामने चोदता है . यार क्या मस्ती आती है चुदवाने में मैं कुछ कह नहीं सकती ? तुम एक बार अपने हसबैंड को लेकर आओ न प्लीज फिर देखो क्या मज़ा आता है ?

>>>> मैंने कहा :- यार मैं चाहतीं तो हूँ पर पता नहीं मेरा हसबैंड कैसा सोचेगा ?
>>>> नीलू बोली :- तो एक काम कर आज तू अभी कुछ देर बाद मेरे कमरे पर आ जा अपने हसबैंड के साथ . बाकि मैं देख लूंगी
>>>> नीलू मुझसे ज्यादा खूबसूरत है . उसकी चूंचियाँ मेरी चूंचियों से बड़ी है . उसकी सेक्सी मुस्कान बड़ी मशहूर है . मुझे लगा की वह मेरे हसबैंड को पटा लेगी . मैं आधे घंटे के बाद उसके कमरे में चली गयी . मैंने अपने हसबैंड से कहा ये है मेरी सहेली नीलू . इसकी शादी पिछले साल पहले हुई थी . और ये है इसका हसबैंड नीरज . मेरा हसबैंड नीलू को देखता रह गया . नीलू ने व्हिस्की निकाली और फिर हम चारों पीने लगे .
>>>> मेरा हसबैंड बोला :- नीलू भाभी आप अब हनीमून मनाने आयी है एक साल बाद ?
>>>> नीलू बोली :- हां यार यहाँ हनीमून मनाने का मज़ा कुछ और ही है . मुझे बार बार आने का मन होता है . स्टीफेन बोला :- ऐसा क्या है यहाँ भाभी ज़रा मुझे भी बताओ न प्लीज ?
>>>> नीलू बोली :- यहाँ ग्रुप में मनाया जाता है हनीमून ? सारे कपल एक साथ मनाते है हनीमून ?
>>>> स्टीफेन बोला :- क्या मतलब भाभी एक साथ कैसे मनाते है ? क्या सब एक दूसरे के सामने करते है .
>>>> नीलू बोली :- एक दूसरे के सामने ही नहीं बल्कि एक दूसरे के साथ करते है . देखो मैं खुल कर बताती हूँ . यहाँ इस होटल में लोग अपने अपने कमरे में अपनी अपनी बीवी चोद कर मनाते है हनीमून और फिर नीचे एक बड़े हाल में सब मिल कर एक दूसरे की बीवी चोद कर मनाते है हनीमून .
>>>> स्टीफेन बोला :- अरे वाह क्या ऐसा होता है यहाँ ? मुझे तो मालूम ही नहीं था .
>>>> नीलू बोला :- तो अब मालूम हो गया न तुम्हे ? क्या अब तुम चलने को तैयार हो ?
>>>> स्टीफेन बोला :- तो क्या आप वहां जाती है भाभी ?
>>>> नीलू बोला :- हां बिलकुल मैं तो इसीलियें हर 6 महीने के बाद यहाँ अपने हसबैंड से साथ आती हूँ . असली बात तो यह है की मुझे ग्रुप से पराये मर्दों से चुदवाने में बड़ा मज़ा आता है और मेरे हसबैंड को परायी बीवियां चोदने में ? इसलिए मैं हर 6 महीने में यहाँ आ जाती हूँ और मजे से चुदवा कर जाती हूँ .

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *